Home धर्म धर्म की व्याख्या —

धर्म की व्याख्या —

0 second read
0
0
1,148

‘धर्म’ का अर्थ है’जीवन जीने की कला’, ‘देश मे’ ‘इसके लिए समभाव’ है ,
‘धर्म’ ‘एक भावना है’,’श्रद्धा है’ ,’विवेक से”जीने का ढंग’ है,’प्रेम का रूप’ है |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…