Home धर्म धर्म और सत्कर्म

धर्म और सत्कर्म

2 second read
0
0
1,324

{ 1 }      जो   श्री   राधे   से   प्यार   करेगा , श्री   कृष्ण     का    हो    जाएगा    पगले  ,

यह     आभाष     करा    उसको     ज़रा  ,  जन्मों     के     पाप    धूल    जाएंगे     तेरे   |

 

{ 2 } ‘जब    तक    मन ‘  ‘ विषय-   विकारों ‘    से    ‘ त्रस्त      है ‘ ,

‘निर्मल     प्रभु      का      निवास ‘   ‘ हो      ही      नहीं     सकता ‘ ,

‘तर्षणा     की    जड़े ‘ ‘कट   गयी ‘  तो   ‘गृहस्थी   भी   त्यागी   है’ ,

‘मन    के    जीते    जीत    है ‘  ‘ मन     के     हारे     हार      सदा ‘  |

 

 {3}  ‘दौलत  –  कुटुम्ब’   ‘ हर   कोई    मांगे’   ,  ‘भक्ति –  भजन    न   कोई ‘ ,

‘ज्ञान     की    ज्योति’   ‘ जला     ले    मन     मैं ‘ ,  ‘ प्रभु    से    प्यार    बढ़ा’   ,

‘तपते     मन     मे    नाम     का    अमृत    घोल ‘ ,  ‘अपनी    प्यास     बुझा ‘ ,

‘सुध – बुध     खो     कर     प्रभु     प्यार     मे’ ,   ‘अपना     विश्वास     जगा  |’

 

 { 4 } ‘भटके     पथिक    को    राह    दिखा ‘ ,  ‘ मानव     धर्म     निभा ‘  ,|

‘तू     कभी      भटका     अगर’  ,  प्रभु  !  ‘मंज़िल    दिखा    देंगे     तुझे’   |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…