Home Uncategorized दोस्त की पहचान

दोस्त की पहचान

0 second read
0
0
1,204
  • ‘सच्चा    दोस्त    वही    है ‘   ‘जो    सुख    मे ‘  ‘ ढाल    की    तरह    पीछे    रहे ‘     ,

        ‘दुःख     से     बचाने     के     लिए’  ,  ‘दौड़     कर     आगे     आ     जाए    तभी ‘  |

  •                    
  •       ऐसा     दोस्त’   ‘ मिलना    कठिन   है ‘ ,  ‘जिसके    लिए    जान    दी    जा    सके ‘  ,

                 ‘दोस्ती’   ‘ मौसम    नहीं’    ‘जो    वक्त    पूरा    करे ‘   ‘और    रुखसत     हो     जाए’   ,

              ‘दोस्ती ‘  ‘ उमड़ता    सावन     नहीं  ‘  ‘जो    टूट    कर   बरसे ‘, ‘और   बिखर   जाए’ ,

                ‘दोस्ती ‘  तो ‘ सांस    है ‘-  ‘चले   तो   सब    ठीक ‘, ‘ टूट   जाए  तो   कुछ   भी   नहीं ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…