देश भक्ति

6 second read
0
0
1,191

‘भारत  मेरी  मात्र -भूमि  है’  , ‘राष्ट्र-गान ‘  तथा  ‘ राष्ट्र-ध्वज ‘  का ‘ सम्मान’ ‘ हमारा  कर्तव्य  है’  ,

‘यदि  सम्मान  नहीं  करेंगे’  तो ‘ स्वाभिमान  गिरेगा ‘ ,’ बस  पशु- तुल्य  समझो   खुद को ‘ ,

‘सभी  अपनी  समस्याओं  से  ग्रस्त  हैं ‘,’राष्ट्रीय   प्रतीकों  का ‘ ‘सम्मान  करते  ही  नहीं ‘ ,

‘राष्ट्र- गौरव’  , ‘राष्ट्र –  स्वाभिमान ‘ ,’ राष्ट्रियता ‘ ‘क्या   होती  है ‘ , ‘भूल  गए  हैं  हम   सभी ‘ ?

‘नई  पीढ़ी  को’ ‘ राष्ट्र  प्रतीकों  का’  ‘ सम्मान   करना  सिखाना’  , ‘अपनी  प्राथमिकता  बनाओ ‘,

‘देश-  भक्ति  का  जज़्बा ‘ ‘फूट-फूट  कर   भरो  सब  में ‘, ‘ क्रान्ति  का  रूप  दो  इसको ‘ ,

‘राष्ट्र  धर्म  क्या  होता  है’  और ‘ राष्ट्रीय – प्रतीक’ ‘ क्या  होते  है’  , ‘ याद  ही  नहीं  रखते ‘  ?

‘जब  ये  अलख  जग  जाएगी ‘भारत-वासियों ‘  ! ‘भारत’-  ‘दुनियाँ  का  सिरमौर  कहाएगा ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…