Home कविताएं देशभक्ति कविता देश भक्ति कविता

देश भक्ति कविता

2 second read
0
0
1,330

‘समाज  का  दर्पण’  ‘ भ्रष्टाचार  से सरोबार है ‘ , ‘चीख-चीख  कर बताता है ‘ ,

‘लोगों  का  स्वाभिमान’  ‘ समाप्त है’ , ‘भ्रत परंपराओं को  ढ़ोने लगे हैं  हम ‘ ,

’26  जनवरी ‘ , ‘ 15 अगस्त’  ,’ गांधी -जयंती ‘,’परंपरागत याद  भर करते  हैं’ ,

‘झण्डा लहराया’ , ‘भाषण हुए’ ,’ घर जा कर  भूल गए’-‘हम भारतवासी  हैं ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…