Home कविताएं देशभक्ति कविता देश की ज़रूरत है

देश की ज़रूरत है

0 second read
0
0
1,159

‘कौन    कितनी   लूट   मचाए ‘, ‘ कितने    लोग    उठाए’  ,  ‘ज़मीनों    पर    कब्जे    कराये ‘ ?

‘स्याही   पुतवाए’ , ‘जूते   फिकवाए’,’अराजकता   फैलाये’ ,’राजनीति   का’  ‘ये  ही  स्वरूप  है’ ,

‘नैतिक    मूल्य ‘ ,  ‘भविष्य    निर्माण ‘ ,’ समर्पित   भाव’   का  अब   ‘ देश   मे  डब्बा   गोल   है ‘ ,

‘इज्जत   की   रोटी’ , ‘ कपड़ा ‘  और   ‘मकान ‘   हर   प्राणी    को , ‘आज   देश   की   ज़रूरत   है ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…