Home कविताएं उदासी की कविताएँ “दुनियाँ से गिला क्यों जब खुद का शरीर साथ नहीं देता” |

“दुनियाँ से गिला क्यों जब खुद का शरीर साथ नहीं देता” |

0 second read
0
0
1,208

खुशी  में  – दसों  उँगलियाँ   ताल   ठोकती   थी ” , ” पौबारह   थे   हमारे ” ,

“उलझनों  ने  पिंगे  बढाई”,”रो पड़े”,”एक  उंगली  उठी  आंसूँ  पोंछ  डाले “,

“दुखों  में  खुद  का  पूरा  शरीर  साथ  नहीं  देता” ,” मैदान  छोड़  जाता  है” ,

“फिर  दुनियाँ  का  गिला  क्या  करना” ,”और क्यों  उम्मीद  करे  बैठे  हैं ” ?

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In उदासी की कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…