Home कोट्स Love Quotes ‘दिल’ में जगह नहीं तो “नज़दीकियाँ “बढ्ने से क्या होगा “? चाहे “दूरियाँ” हों पर “स्नेह की खुशबू” महकनी चाहिए |

‘दिल’ में जगह नहीं तो “नज़दीकियाँ “बढ्ने से क्या होगा “? चाहे “दूरियाँ” हों पर “स्नेह की खुशबू” महकनी चाहिए |

0 second read
0
0
488

[1]

जरा सोचो
‘जड़’  खोदने  वाले  तो  ‘खोदेंगे’, ‘घबरा’  गए  तो  ‘मर’  जाओगे,

‘ कर्मकार ‘  बनकर  जीते  रहे,  सबके  ‘ चहेते ‘  बन  जाओगे  !

[2]

जरा सोचो
‘प्रार्थना’  में  विश्वास ‘ अंधकार  का  अंत ‘  स्वरूप  ही  जानो,
‘अंतःकरण’  को  शुद्ध  बनाए  रखना, ‘पूर्णता’ का  एहसास  है !

[3]

जरा सोचो
‘यकीन’  करना  है  तो  करो,  ‘सफाई’  पेश  करने  से  क्या  होगा ?
कभी  ‘ बेभरोसे ‘ जिया  नहीं  जाता , ‘ तजुर्बा ‘  करके  देख  लो !

[4]

जरा सोचो
अगर  ‘दिलों’  में  जगह  नहीं, ‘नज़दीकियां’  बढ़ने  से  क्या  होगा ?
चाहे  ‘ दूरियां ‘  बढ़ती  रहें , ‘ स्नेह ‘  की ‘ खुशबू ‘  महकनी  चाहिए !

[5]

जरा सोचो
सभी  से  ‘ प्यार ‘  से  मिलने  की  कोशिश  तो  कर,
नये ‘लम्हे’ रोज  मिलते  हैं, ‘प्रयास’ कभी ‘व्यर्थ’  नहीं  जाते !

[6]

मेरी सोच
अपने  हों  या  कोई  और ” नाराजगी  के  बीज़ ” को  सदा  के  लिए  काट  डालो |
जिन्दगी  कुछ  तो  कट  गयी , बची  हुयी  में  ही  सत्कर्म  का  दामन  पकड़ते  क्यों  नहीं |
[7]
जरा सोचो
शांतप्रिय  मस्तिष्क , स्वस्थ  शरीर, प्यार  भरा  दिल, और  खुशियां,
‘बाजार’  में  नहीं  ‘बिकते’,  पाना  है  तो  ‘उत्तम  प्रयास’  जारी  रख  !
[8]
जरा सोचो
सभी  को  ‘ मोहब्बत ‘  से  नवाजें, ‘ नफरतों ‘  में  क्या  रखा  है ?
‘दुनियां’ न  हमारा  घर  है, न  ठिकाना, ‘सफर’ का  आशियाना  है !
[9]
 जरा सोचो
‘दुश्मनों’   को  ‘बर्बाद’  मत  करो, ”दुश्मनी’  को ‘हलाल’ करते  रहो,
‘किसी  दिन’- दिन  भी  बदलेंगे, ‘प्यार  का  प्याला’  भी  छलकेगा !
[10]
 जरा सोचो
‘कर्म  की  हांडी’  में  जैसा  ‘ पकाया ‘,  मिल  गया,
‘उधम’ क्यों  मचाए  हो ? ‘भुगतने’ को  तैयार  रहो !
[11]
जरा सोचो
सब  कुछ  ‘लुटा’  कर  भी  ‘होश’  नहीं,  गजब  ‘इंसान’  हो,
सिर्फ  ‘एहसासों ‘का  खेल  है  जीवन, बाकी  कुछ  भी  नहीं !
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Love Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…