Home ज्ञान “दक्षिण-भारत के बहुत बड़े नीति शास्त्र के दोहे ” |

“दक्षिण-भारत के बहुत बड़े नीति शास्त्र के दोहे ” |

39 second read
0
0
1,819

आदरणीय  श्री थिरुवल्लवुर जी  –दक्षिण   भारत   के   बहुत   बड़े   नीतिशास्त्र         के   जानकार   रहे   हैं  ।

प्रस्तुत   है   उनके   हिन्दी   में   अनुदित   दोहे  ।

अक्षर  सबके  आदि  में ,  है  अकार  का  स्थान  ।
अखिल  लोक  का  आदि  तो ,  रहा  आदि  भगवान  ॥
विद्योपार्जन   भी   भला  ,  क्या  आयेगा  काम  ।
श्रीपद   पर  सत्याज्ञ   के  , यदि   नहिं   किया   प्रणाम  ॥
हृदय -पद्म्-गत   ईश   के  , पाद-पद्मज   जो   पाय   ।
श्रेयस्कर   वरलोक   में  ,  चिरजीवी   रह   जाय   ॥

जो   रहते   हैं   ईश   के  , सत्य   भजन   में   लिप्त   ।
अज्ञानाश्रित   कर्म   दो  ,  उनको   करें   न   लिप्त  

पंचेन्द्रिय -निग्रह   किये  ,  प्रभु   का   किया   विधान  ।

धर्म-पंथ   के   पथिक   जो  ,   हों   चिर आयुष्मान   ॥
ईश्वर   उपमा   रहित   का,   नहीं   पदाश्रय -युक्त  ।
तो   निश्चय   संभव   नहीं ,   होना   चिन्ता-मुक्त   ॥
धर्म-सिन्धु   करुणेश   के  ,   शरणागत   है   धन्य  ।
उसे   छोड   दुख-सिन्धु   को ,  पार‍   न   पाये   अन्य   ॥
निष्क्रिय   इन्द्रिय   सदृश   ही ,  ‘सिर’  है   केवल  नाम ।
अष्टगुणी   के   चरण   पर  ,  यदि   नहिं   किया   प्रणाम   ॥
व-सागर   विस्तार   से  , पाते   हैं   निस्तार   ।
ईश-शरण   बिन   जीव   तो  ,  कर   नहीं   पाये   पार   ॥
गृहिणी- गुणगान    प्राप्त   कर  ,  पुरुष-आय   अनुसार  ।
जो   गृह-व्यय   करती   वही  ,   सहधर्मिणी   सुचार  ॥
गुण-गण  गृहणी   में   न   हो,   गृह्य-कर्म   के   अर्थ ।
सुसंपन्न   तो   क्यों   न   हो , गृह-जीवन   है   व्यर्थ ॥
गृहिणी   रही   सुधर्मिणी  ,  तो   क्या   रहा   अभाव  ।
गृहिणी   नहीं   सुधर्मिणी  ,  किसका   नहीं   अभाव ॥
स्त्री   से   बढ़   कर   श्रेष्ठ  ही ,  क्या   है   पाने   योग्य  ।
यदि   हो   पतिव्रत   की  ,  दृढ़ता   उसमें   योग्य   ॥
पूजे   सती   न   देव   को  ,   पूजे   जग   निज   कंत  ।
उसके   कहने   पर   ‘बरस ’,   बरसे   मेघ   तुरंत   ॥
रक्षा   करे   सतीत्व   की  ,   पोषण   करती   कांत  ।
गृह   का   यश   भी   जो   रखे  ,  स्त्री   है   वह   अश्रांत   ॥
परकोटा   पहरा   दिया  ,   इनसे   क्या   हो   रक्ष   ।
स्त्री   हित   पतिव्रत्   ही  ,   होगा   उत्तम   रक्ष   ॥
यदि   पाती   है   नारियाँ  ,   पति   पूजा   कर   शान   ।
तो   उनका   सुरधाम   में  ,   होता   है   बहुमान   ॥
जिसकी   पत्नी   को   नहीं   ,  घर   के   यश   का   मान ।
नहिं  निन्दक   के   सामने  , गति   शार्दूल   समान ॥
गृह   का   जय  मंगल   कहें ,   गृहिणी   की   गुण-खान ।
उनका   सद्भूषण   कहें  ,  पाना    सत   सन्तान  |
जो   मुंह   से   तत्वज्ञ   के ,  हो   कर   निर्गत   शब्द ।
प्रेमाशक्त     निष्कपट   हैं  ,   मधुर   वचन   वे   शब्द ॥

 

मन   प्रसन्न   हो   कर   सही  ,  करने   से   भी   दान ।

मुख   प्रसन्न   भाषी   मधुर  ,  होना   उत्तम   मान  ॥
ले   कर   मुख   में   सौम्यता  ,  देखा   भर   प्रिय   भाव  ।
बिना    ह्रदय    मृदु   वचन  ,   यही   धर्म   का   भाव   ॥
दुख-वर्धक   दारिद्र्य   भी  ,  छोड़   जायगा   साथ  ।
सुख-वर्धक   प्रिय   वचन   यदि  ,  बोले  सब  के  साथ  ॥
मृदुभाषी   होना   तथा  ,   नम्र-भाव   से   युक्त ।
सच्चे   भूषण   मनुज   के ,  अन्य  नहीं  है  उक्त ॥
होगा   ह्रास   अधर्म   का  ,  सु-धर्म   का   उत्थान ।
चुन-चुन  कर  यदि  शुभ  वचन , कहे  मधुरता-  मान   |
मधुर   शब्द   संस्कार-युत , पर  को  कर  वरदान ।
वक्ता   को   नव -नीति   दे  ,  करता   पुण्य  प्रदान ॥
ओछापन   से   रहित   जो  ,  मीठा   वचन   प्रयोग ।
लोक   तथा   परलोक   में  ,   देता   है   सुख-भोग ॥
मधुर   वचन   का   मधुर   फल ,  जो   भोगे   खुद   आप  ।
कटु   वचन   फिर   क्यों   कहे  ,  जो   देता   संताप   ॥

रहते   सुमधुर     वचन   के  ,  कटु   कहने   की  बान ।
यों   ही   पक्का   छोड़   फल  ,   कच्चा   ग्रहण  समान |
उपकृत   हुए   बिना   करे  ,   यदि   कोइ   उपकार ।
दे   कर   भू ,  सुर-लोक   भी  , मुक्त   न  हो  आभार ॥
संकट   के   समय   पर ,  किया   गया   उपकार ।
भू   से   अधिक   महान   है अति, यद्यपि   अल्पाहार  ॥
स्वार्थ  रहित   मदद   का, यदि   गुण   आंका    जाय ।
उदधि-  बड़ाई   से   बड़ा  ,   वह   गुण   माना   जाय ॥

उपकृति   तिल   भर   ही   हुई  ,  तो   भी   उसे   सुजान ।

मानें   ऊँचे   ताड़   सम  ,   सुफल   इसी   में   जान   ॥

सीमित   नहिं  , उपकार  तक,  प्रत्युपकार – प्रमाण ।
जितनी   उपकृत- योग्यता  ,  उतना   उसका  मान ॥
निर्दोषों   की   मित्रता  ,  कभी   न   जाना  भूल ।
आपद-  बंधु   स्नेह   को  ,  कभी  न  तजना  भूल ॥
जिसने   दुःख   मिटा   दिया  ,  उसका   स्नेह   स्वभाव ।
सात   जन्म   तक   भी   स्मरण  ,   करते   महानुभाव ॥
भला   नहीं   है   भूलना  ,   जो   भी   हो   उपकार ।
भला   यही   झट   भूलना  ,  कोई   भी   अपकार ॥
हत्या   सम   कोई   करे  ,  अगर   बड़ी   कुछ   हानि ।
उसकी   इक   उपकार -स्मृति  ,  करे  हानि  की  हानि ॥
जो     भी   पातक   नर   करें  ,   संभव   है   उद्धार ।
पर   है   नहीं   कृतघ्न   का  ,   संभव   ही  निस्तार ॥
मध्यस्थता    यथेष्ट   है  ,  यदि   हो   यह   संस्कार ।
शत्रु   मित्र   औ’   अन्य   से , न्यायोचित  व्यवहार ॥
न्यायनिष्ठ   की   संपदा  ,  बिना   हुए   क्षयशील ।
वंश   वंश   का   वह  रहे ,  अवलंबन   स्थितिशील ॥
तजने   से   निष्पक्षता  ,  जो   धन   मिले   अनन्त ।
भला  –  भले   ही    वह   करे ,  तजना   उसे   तुरन्त ॥
कोई   ईमानदार    है  , अथवा  वह    बेईमान ।
उन   उनके   अवशेष   से  ,   होती   यह   पहचान ॥
संपन्नता   विपन्नता  ,  इनका   है   न   अभाव  ।
सज्जन   का   भूषण   रहा ,   न्यायनिष्ठता   भाव ॥
सर्वनाश   मेरा   हुआ  , यों   जाने   निराधार  ,
चूक  न्याय-पथ  यदि  हुआ ,  मन  में  बुरा  विचार ॥
न्यायवान   धर्मिष्ठ   की  ,   निर्धनता   अवलोक ।
मानेगा   नहिं   हीनता  ,   बुद्धिमान   का   लोक ॥
सम   रेखा   पर   हो   तुला ,  ज्यों   तोले   सामान ।
भूषण   महानुभाव   का  ,   पक्ष   न   लेना   मान ॥
कहना   सीधा   वचन   है  ,   मध्यस्थता   ज़रूर ।
दृढ़ता   से   यदि   हो   गयी  ,   चित्त- वक्रता  दूर ॥
यदि रखते  पर   माल   को,  अपना   माल   समान ।
वणिक   करे   वाणीज्य   तो  ,   वही   सही   तू   जान ॥
संयम   देता   मनुज   को  ,   अमर   लोक   का   वास ।
झोंक   असंयम   नरक   में  ,   करता   सत्यानास   ॥

संयम   की   रक्षा   करो  ,   निधि   अनमोल   समान ।
श्रेय   नहीं   है   जीव   को  ,   उससे   अधिक   महान ..॥

कोई   संयम-शील   हो,   अगर   जान  कर   तत्व ।
संयम   पा   कर   मान्यता  ,   देगा   उसे   महत्व ॥

बिना   टले   निज   धर्म   से  ,   जो   हो   संयमशील ।
पर्वत   से   भी   उच्चतर  ,   होगा   उसका   डील ॥
संयम   उत्तम   वस्तु   है  ,   जन   के   लिये   अशेष   ।
वह   भी   धनिकों   में   रहे,  तो   वह   धन   सुविशेष ॥
चाहे   औरों  को  नहीं ,  रख   लें   वश   में   जीभ ।
शब्द-दोष   से   हों   दुखी  , यदि  न  वशी  हो  जीभ ॥
एक   बार   भी   कटु  वचन ,   पहुँचाये   यदि   कष्ट ।
सत्कर्मों   के   सुफल   सब  ,   हो   जायेंगे   नष्ट ॥
घाव   लगा   जो   आग   से  ,  संभव   है   भर   जाय ।
चोट   लगी   यदि   जीभ   की  , कभी   न  मेटी  जाय ॥
क्रोध   दमन   कर   जो   हुआ  ,   पंडित   वही    समर्थ ।
धर्म -देव   भी   जोहता   ,   बाट   भेंट   के   अर्थ   ॥
बुद्धिमान   सन्तान   से  ,   बढ़   कर   विभव   सुयोग्य  ।
हम   तो   मानेंगे   नहीं  ,   हैं   पाने   के   योग्य   ॥
सात   जन्म   तक   भी   उसे ,  छू   नहिं   सकता   ताप ।
यदि   पावे   संतान   जो   ,  शीलवान   निष्पाप  ॥
निज   संतान -सुकर्म   से  ,   स्वयं   धन्य   हों   जान ।
अपना   अर्थ   सुधी   कहें  ,   है   अपनी   संतान   ॥
नन्हे   निज   संतान   के  ,   हाथ   विलोड़ा   भात ।
देवों   के   भी   अमृत   का ,   स्वाद   करेगा   मात ॥
निज   शिशु   अंग-स्पर्श   से,   तन   को   है   सुख-लाभ ।
टूटी- फूटी   बात   से  ,   श्रुति   को   है   सुख-लाभ ॥
मुरली-नाद   मधुर   कहें  , सुमधुर   वीणा-गान ।
तुतलाना   संतान   का  ,  जो   न   सुना  निज  कान ॥
पिता   करे   उपकार   यह  ,   जिससे   निज   संतान  ।
पंडित  -सभा  -समाज   में  ,   पावे   अग्र-स्थान ॥
विद्यार्जन   संतान   का  ,   अपने   को   दे   तोष  ।
उससे   बढ़   सब   जगत   को  ,   देगा  वह  संतोष ॥
पुत्र   जनन   पर   जो   हुआ  ,  उससे   बढ़   आनन्द ।
माँ   को   हो   जब   वह   सुने  ,   महापुरुष   निज   नन्द ॥
पुत्र   पिता   का   यह   करे  ,   बदले   में   उपकार ।
`धन्य- धन्य   इसके   पिता’  ,  यही   कहे   संसार ॥
योग-क्षेम   निबाह   कर ,   चला   रहा   घर-बार ।
आदर   करके   अतिथि   का  ,  करने   को   उपकार ॥
बाहर   ठहरा   अतिथि   को  ,  अन्दर   बैठे   आप ।
देवामृत   का   क्यों   न   हो ,  भोजन  करना  पाप ॥
दिन   दिन   आये  अतिथि   का  ,  करता   जो   सत्कार ।
वह   जीवन   दारिद्रय   का  ,   बनता   नहीं   शिकार  ॥
मुख   प्रसन्न   हो   जो   करे  ,  योग्य   अतिथि-सत्कार ।
उसके    घर   में   इन्दिरा  ,   करती   सदा   बहार ॥

 

खिला   पिला  कर   अतिथि   को,   अन्नशेष   जो   खाय ।
ऐसों   के   भी   खेत   को  ,   काहे   बोया   जाय ॥
प्राप्त   अतिथि   को   पूज   कर  ,  और   अतिथि   को   देख ।
जो   रहता  ,  वह   स्वर्ग   का  ,   अतिथि   बनेगा   नेक  ॥
अतिथि-यज्ञ   के   सुफल   की  ,  महिमा   का  नहिं   मान ।
जितना   अतिथि   महान   है  ,   उतना   ही   वह   मान ॥

 

कठिन   यत्न   से   जो   जुड़ा  ,  सब   धन   हुआ   समाप्त ‘ ।
यों   रोवें  ,  जिनको   नहीं  ,   अतिथि- यज्ञ -फल  प्राप्त ॥
निर्धनता    संपत्ति   में  ,   अतिथि- उपेक्षा   जान ।
मूर्ख   जनों   में   मूर्ख   यह  ,  पायी   जाती   बान ॥

सूंघा   ‘अनिच्च’   पुष्प   को  ,   तो   वह   मुरझा   जाय ।
मुँह   फुला   कर   ताकते  ,   सूख   अतिथि-  मुख  जाय ॥

 
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…