झूठी शोहरत

0 second read
0
0
1,288

  ‘अगर    कोई    औरत ‘  ‘ अपनी     मर्यादा     बेच    कर’   ‘शोहरत    कमाती    है ‘ ,

      ‘उससे    बड़ा    बेवकूफ’  ‘ कोई   और    नहीं’  , ‘लोग   उसे  ‘ चीज ‘   समझते    हैं ‘  ,

      ‘हर    नज़र’   ‘तुम्हें   सम्मान    से   देखे’ , ‘ऐसी   कुव्वत   पैदा   करो’  , ‘अन्यथा’  ,

       ‘तुमसे    गरीब ‘ , ‘ खस्ता     हाल ‘ , ‘ इस     दुनियाँ     मे ‘   ‘ ओर     कोई     नहीं ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…