Home कविताएं धार्मिक कविताएँ जैसे गंगा’ के ‘निर्मल नीर’ मे ‘डुबकी लगते ही’ ‘मन पवित्र’ हो जाता है

जैसे गंगा’ के ‘निर्मल नीर’ मे ‘डुबकी लगते ही’ ‘मन पवित्र’ हो जाता है

1 second read
0
0
1,325

‘जैसे गंगा’ के ‘निर्मल नीर’ मे ‘डुबकी लगते ही’ ‘मन पवित्र’ हो जाता है ,
‘भक्ति भाव ‘ मे ‘ डूबते ‘ ही ‘मानव’, ‘परमात्मा ‘ की ‘अनुभूति ‘ करता है ,
‘फिर भी’, ‘तू’ -‘मायावी दुनिया’ मे ‘दिन-रात’ ‘कुलाचे’ मार रहा है ,
‘तूने’ ‘ क्या कभी सोचा है ‘–‘क्या पाया’ और ‘ क्या खो दिया’ ‘ तूने’ ?

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…