Home ज़रा सोचो ‘जीवन में हमारी सोच का कमाल है जो सरल जीवन जी जाते हैं ‘ |

‘जीवन में हमारी सोच का कमाल है जो सरल जीवन जी जाते हैं ‘ |

0 second read
0
0
812

[1]

‘बच्चों को सँवारने  हेतु  माँ-बाप  जिंदगी  दांव  पर  लगा  देते  हैं’,
‘बच्चे  कुछ  कर  दें  तो  गनीमत  है , उम्मीद  करना  छोड़  दें ‘|

[2]

‘कोई  हमें  याद  करें  या  न  करें ,
‘ये  उनका  हिसाब  है ‘,
‘जिन्हें  हम  याद  रखते  हैं ,
‘खुश  रखना  उन्हें  दाता ‘|

[3]

‘हम  छोटा  सोचेंगे  तो  कुछ  बड़ा  नहीं कर  पाएंगे’ बिलकुल गलत’,
‘आँखें  कितनी  छोटी  हैं  पर  सारा  संसार  देख  सकती  हैं ‘|

[4]

‘यदि  कोई  हमारे  लिए  झुकने  में  सभी  हदें  पार  कर  जाए ‘,
‘वह  हमें  ‘इज्जत  और  स्नेह’ से  नवाज़  रहा  है , मान  लो ‘|

[5]

‘नकारात्मक  सोच ‘ जिंदा  इंसान  को  मुर्दा  बना  देती  है ‘,
‘हर घटित घटना  पर  यही  सोचें ,’जो  ही  हुआ  अच्छा  हुआ ‘|

[6]

‘खुशी  हो  या उदासी’,’ख्वाब हो  या  हकीकत’तुम्हें  हम  याद  रखते  हैं ‘,
‘हमें  ‘जिक्र  और  फिक्र’  दोनों  हैं , ‘ दाता ,सलामत  रखना  उन्हें ‘|

[7]

‘सच  की  कमाई  करो , जीवन  भर  आनंद  लो’,
‘झूठ  को  कर्जा  जानो,उम्र  भर  उतारते  ही  रहो ‘|

[8]

‘सुकर्म  करने  का  अवसर  प्रभु  सब  को  प्रदान  करते  हैं ‘,
‘जो  इसका  लाभ  नहीं  उठा  पाते ,  वो  बड़े  अभागे  हैं ‘|

[9]

‘जिसने  वर्तमान  संभाल  लिया ,’समयानुसार  खुद  को  बदल  लिया,
‘बड़ा  बड़भागी  है ,समझ  लो  प्रगतिशील  जीवन  जी  लिया  उसने ‘|

[10]

‘जरा  सा  संखिया  जान  ले  लेता  है,
‘जरा  सी  अवहेलना  कोसों  दूर  ले  जाती  है,
‘जरा  सी  दवाई  रोगों  का  निदान  है,
जरा  सी  भक्ति  कष्ट  को  हरती  है |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…