Home ज़रा सोचो ‘जीभ बड़ी चंचल होती है’ , ‘सदा अच्छा –बुरा’ ‘ सबकुछ उगलती है’ ,

‘जीभ बड़ी चंचल होती है’ , ‘सदा अच्छा –बुरा’ ‘ सबकुछ उगलती है’ ,

0 second read
0
0
1,655

‘जीभ बड़ी चंचल होती है’ , ‘सदा अच्छा –बुरा’ ‘ सबकुछ उगलती है’ ,
‘उन्नति या अवनति के राज सदा’ ‘ जीभ में ही छिपे मिलते हैं ‘,
‘घर का भेदी लंका ढाये’ , ‘जीभ तुम्हारी है’ , ‘संभाल कर चलाओ’ ,
‘तुम भी समाज के ही अंश हो’ , ‘यहीं पर रहना है ‘, ‘सोचो ज़रा’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…