जीने का सलीका

0 second read
0
0
1,318

‘तू   ऐसे   सम्बंध   बना   अपने ‘  , ‘याद   करने   को   मजबूर   हो   जाएँ   सभी’  ,

‘मंजिल   ऐसी    तलास   करो ‘ , ‘ पा    कर   सलाम   करने   लगें   तुझको   सभी ‘ ,

‘आशा   दीप   ऐसा   प्रज्वलित   करो ‘,  ‘जो  आराम   से   मंजिल   पर  पहुंचा    दे ‘,

‘हर   किसी   से    ऐसे    मिलो  ताकि ‘, ‘सम्बन्धों   की   कदर   करने   लगे  सभी ‘  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…