Home हमारा देश जिन पर भरोसा था

जिन पर भरोसा था

0 second read
0
0
1,309

‘जिन   पर    भरोसा    था ‘ , ‘ सभी     गद्दार     निकले’  ,

‘क्या   अकेला   चना ‘  , ‘ भाड़ ‘  ‘ भून    पाएगा    कभी ‘ ,

‘एक    नहीं ‘ ‘ हज़ार    मोदी ‘ ‘ कम    पड़ेंगे    देश    को ‘,

‘जब   अवाम    का ‘  ‘ पूरा   ईमान  ‘  ही   ‘ बीमार     हो ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In हमारा देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…