Home ज़रा सोचो ‘जिंदगी में पहले ऐसा पंगा नहीं देखा — एक सारगर्भित विवेचना ‘ |

‘जिंदगी में पहले ऐसा पंगा नहीं देखा — एक सारगर्भित विवेचना ‘ |

1 second read
0
0
496
*ज़िंदगी   में   पहले   ऐसा   पंगा   नहीं   देखा ।*
*हवा शुद्ध है पर मास्क पहनना अनिवार्य है*।
*सड़कें खाली हैं पर लॉन्ग ड्राइव पर जाना नामुमकिन है।*
*लोगों के हाथ साफ हैं पर हाथ मिलाने पर पाबंदी है।*
*दोस्तों के पास साथ बैठने के लिए वक़्त है पर उनके दरवाजे बंद हैं।*
*गंगा का पानी साफ हो गया है पर उसे पीना किस्मत में नहीं है!*
*अपने अंदर का कुक दीवाना हुआ पड़ा है पर किसी को खाने पर बुला नहीं सकते।*
*सोमवार को भी ऑफिस जाने के लिए दिल मचल रहा है पर ऑफिस में लंबा वीकेंड है।*
*जिनके पास पैसे हैं उनके पास खर्च करने के रास्ते बंद हैं।*
*जिनके पास पैसे नहीं हैं उनके पास कमाने के रास्ते बंद हैं।*
*पास में समय ही समय है लेकिन अधूरी ख्वाहिशें पूरी नहीं कर सकते।*
*दुश्मन जगह-जगह है पर उसे देख नहीं सकते।*
*कोई अपना दुनिया छोड़कर चला जाए तो उसे छोड़ने जा भी नहीं सकते।*
*है तो सब-कुछ पर कुछ कर नहीं सकते।*
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…