Home शिक्षा इतिहास जानिए – “दुनियाँ की कुछ विशेष बातें “

जानिए – “दुनियाँ की कुछ विशेष बातें “

2 second read
0
0
1,706

1  ‘ताजमहल ‘ ‘ शाहजहाँ  ने’  ‘अपनी  बेगम  मुमताज़   महल  की   याद ‘  में   बनवाया   था   |

2  ‘ औरंगजेब  ‘  ने  ‘गुरु  तेग   बहादुर  ‘  की  हत्या  करवाई  थी  |

3    मुगल  बादशाह  ‘जहाँगीर ‘   के   शासन   काल   मे  ‘ चित्रकला ‘ अपनी  चरम  सीमा  पर  पहुँच   गयी   थी  |

4    सिख  धर्म    के  ‘गुरु   अर्जुन  देव ‘  की ‘ जहाँगीर  बादशाह ‘ ने   ‘हत्या   करवा   दी  थी  ‘ |

5  ‘  गुलबदन   बेगम ‘   ने  ‘ हुमायूँ  नामा  ‘  पुस्तक  की  रचना  की  थी  |

6    ‘राजा  राणा    कुम्भा ” ने  अपनी  विजयों  के  उपलक्ष्य   मे  ‘चित्तौड़  गढ़ ‘  मे   विजय   स्तम्भ ‘  का  निर्माण   कराया  था  |

7    ‘कुमार  गुप्त ‘   नाम   के   शाषक  ने   ‘ नालंदा  विश्व -विद्यालय ‘  की   स्थापना    की   थी  |

8   ‘तराइन ‘  का   प्रथम   युद्ध  ‘  प्रथ्वीराज   चौहान ”  व  ‘मोहम्मद  गौरी ‘  के  बीच  सन  1191   मे  हुआ  था  |

9   रेडियो  तरंगे   वायु  मण्डल   की     ‘आयन    मण्डल ‘  नाम    की  ‘ सतह ‘   से    परिवर्तित     होती    है   |

10   शून्य   की   खोज   ‘  आर्य   भट्ट  ‘  ने   की   थी   |

11   ‘ हवाई  जहाज ‘  वायुमंडल  की   ‘ समतल  मण्डल   परत  ‘  मैं   उड़ते    हैं   |

12   ‘ छोम  मण्डल ‘   की    धरातल    से    अधिकतम    ऊंचाई   18   किलो  मीटर    होती   है   |

13     भारत  मे  दक्षिण -पश्चिम   मानसून  ‘   अक्सर  ‘जून  से  सितम्बर  ‘  माह  के  बीच    सक्रिय   होता   है   |

 14    ‘ प्रार्थना   समाज ‘   की  स्थापना  ‘आत्मा    राम    पाडू  रंग  ‘  नाम    के   आदमी   ने   की   थी |

15     ‘  मिशनरी   आफ   चैरिटी ‘  नामक  संगठन    की   स्थापना   कोलकाता  मे   ‘मदर   टेरेसा  ‘    ने   की   थी  |

16     ‘ लेड़ी  विद   द  लैम्प ‘  के   नाम    से   ‘ फ्लोरंस   नाइटेंगल ‘   का   नाम   प्रसिद्ध    है

17     ‘ ऑक्सीज़न  गॅस ‘  ही  जलाने   मे  सहायक  होती  है  |

18     97  प्रतिशत  वायुमंडल   का  भाग   29   किलो  मीटर   तक  फैला  होता  है   |

      19     1857   की  क्रांति   का  कारण  ‘  ‘चर्बी -युक्त   कारतूस ‘  का    सेना   मे    प्रयोग   ही   मुख्य    था   |

20     विश्व  का   सबसे   बड़ा  ‘केकड़ा ‘  का  नाम  ‘ मैक्रोकीरा   काम्प फेरी ‘  या  ‘ स्पाइडर   क्रेब  ‘  है  | तथा  जापान

मे  पाया  जाता  है |  इसकी  लंबाई  38  से  40  सेमी  व  वज़न   18  से  20  किलो  तक  पाया  जाता  है   |

21     ‘ मार्को  पोलो ‘  सन  1254    मे   वेनिस   मे  पैदा  हुए  थे  |  जिन्होने  एशिया   की ‘ खोज’  करके  ‘ यूरोप   के

लोगों    को   बताया   था  |  इन्हे   पूरब   का   अन्वेषक    कहा   जाता   है   |

22     आस्ट्रेलिया    मे    एक   चलती    फिरती    पहाड़ी    है    जिसका  नाम   ‘ ग्राम सीन ‘ है  | यह  एक  मनोरंजन

पार्क    की    तरह   है  |  यह आस्ट्रिया ‘  का  ‘ टोर्न    पहाड़ी ‘  अपना   स्थान    बदलती    रहती    है   |

23     ‘ पर्वत ‘  का  ‘  नोड्रन  जल  प्रपात  ‘  संसार  के  प्राकृतिक   आश्चर्यों ‘  मे  से  एक  है  |

प्रतिदिन   निशचित   समय  ‘ साढ़े   तीन   बजे ‘  ‘एक    इन्द्र    धनुष   उदय    होता   है ‘  जिससे    लोग  अपनी

‘ घड़ी  का  समय  मिलाते   हैं’  |

24      ‘ब्राज़ील ‘  के  ‘ बेलम  टएपरा ‘  नमक  शहर  मे  दोपहर  दो  से   चार   बजे   के   बीच   नियमित   रूप   से   वर्षा

होती   है  |   वहाँ   के   निवासी   इन    दो   घंटे    मे   अवकाश    मनाते    हैं  |

25      ‘इटली ‘  के  आर्मिया  छेत्र  मे  एक  विचित्र   झरना   है   उसमें   सर्दी   मे  गरम   पानी  निकलता  है  ,,  भाप   के

बादल    निकलते   हैं   और   गर्मी    मे  उसका   पानी   बर्फ   जैसा    ठंडा   पानी    हो   जाता   है  |

26       पश्चिम    बंगाल  के   नदिया   ज़िले    के  ‘ कोलाडिया  गाँव ‘  मे  एक    ऐसा   नारियल   का   पेड़    है   जिसकी

शाखा  मे  नए   पौधों  को   जन्म   देता   है   |  पौधे   जड़  से   उगते   हैं  ,   उन्हे    तोड़  कर   ज़मीन   मे   गाड़

देने   से   स्वतंत्र  पौधा   निकल   आता    है   |

27      गरम   प्रदेशों  मे  उगाने  वाला   वक्ष  ‘ समानी   सनम ‘  रात  मे  बादल  की  तरह   बरसता   है   |  उसकी  डंठले

दिन  मे  हवा    की   नमी   को    सोख   लेते   हैं  |   गर्मी   शांत   होते   ही   रात   मे   बरसते   हैं   और   वहाँ    के

निवासियों   की   प्यास    बुझते    हैं   |

28    ‘ टेलीफोन   का   आविष्कार ‘  ‘अमेरिकी  वैज्ञानिक’ ‘ अलेक्ज़ेंडर  ग्राहम  बेल ‘  ने   सन  1876   मे   किया    था  |

——पंजाब   केसरी   के   सौजन्य   से  —–

       जय    हिन्द  ,  जय   हमारा   भारत   |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…