Home ज्ञान ” जल की उत्पत्ति कैसे हुई ? “एक शोध पर पुराणों से उपलब्ध सामग्री प्रस्तुत है ” |

” जल की उत्पत्ति कैसे हुई ? “एक शोध पर पुराणों से उपलब्ध सामग्री प्रस्तुत है ” |

6 second read
0
0
1,305
{   श्री   विजयकुयर  जी  गोयल   के  सौजन्य   से  उपलब्ध  }
जल / पानी   की   उत्पत्ति   कैसे   हुई  :    
जब   सृष्टि   नहीं   थी   प्रलयकाल   था  ,   उस   समय   कोई   नहीं   था  :   जल ,आकाश , पृथ्वी , सूर्य , चंद्रमा ,अग्नि,  हवा , मनुष्य ,                                    जीव-जंतु , सारे  तीर्थ , वृक्ष ,  पेड़  ,  पशु  ,  देवलोक  , ग्रहलोक  ,   बैकुंठ लोक  , ब्रह्मलोक  , शिवलोक  , मृत्युलोक  , पाताल लोक  ,                                      देवी -देवता   आदि  ।   कुछ   भी   नहीं   था  ।   पूरे   त्रिलोक   में   केवल   अंधेरा   ही   अंधेरा   था  ।
उस   प्रलय   के   समय   में   रहते   हैं   तो   कण-कण   में   रहने / बसने   वाले   केवल   पर   ब्रह्म   परमात्मा   जो   निराकार   स्वरूप   में                          विद्यमान   रहते   हैं  ।   इनके   ना   हाथ-पैर   होते   हैं  ,  ना   ही  आंख- नाक – कान   मुंह  ,   पेट   होते   हैं  ।   लेकिन   वो   निराकार   परम                        परमात्मा   फिर   भी   काम   करते   हैं  ,   देखते   हैं  ,   सूंघते   हैं   और   चलते-फिरते   भी   है  ।   अर्थात   बिना   शरीर   के   भी   परम                              परमात्मा   सभी   कुछ   कर   सकते   हैं  ।
और   इसी   निराकार   परम   परमात्मा   ने   प्रलय   के   बाद   सृष्टि   की   रचना   की  ।
सबसे   पहले   परम   परमात्मा   ने   अपने   आप   को   समेट   कर   अपना   एक   स्वरुप   बनाया  ।   और   इस   सृष्टि   में   सबसे   पहले                                पूर्ण   परम   ब्रह्म   परमात्मा   प्रगट   हुए  ।
सृष्टि   के   अन्धकार   में   जो   परमात्मा   प्रगट   हुए   वो   मनुष्य   के   रुप   में   हुए  ।   जिनका   वर्णन   किसी   भी   तरह   से   नहीं   किया                           जा   सकता  ।   लेकिन   इनके   शरीर   पर   कोई   वस्त्र   या   आभूषण   नहीं   था  ।   केवल   सिर   पर   बाल   ही   बाल   थे   और   बाल   भी                          इतने   थे   कि   पूरे   त्रिलोक   में   फैल   गए  ।   और   परमात्मा   ने   अपने   इस   स्वरुप   का   नाम   रखा  : ” सदाशिव  ”  ।
इसके   बाद   अपने  साथ   में   स्त्री   के   रुप   में   एक   अष्ट   भुजा   धारी   शक्ति   को   प्रगट   किया   क्योंकि   शक्ति   बिना   भगवान   भी   अधूरे                 हैं  ,   शक्तिमान   नही   हो   सकते  ।   और   उस   शक्ति   को   नाम   दिया  : ”  शिवा  “
फिर   अपने   रहने   के   लिए   बिना   पृथ्वी   के  ,   बिना   आकाश   के  ,   बिना   धरातल   के   परमात्मा   ने   एक   बहुत   सुंदर   नगर   को   प्रगट             किया  ।   जो  कभी   प्रलय   के   समय   भी   विनाश   नहीं   होता  ।   और   ना   ही   परमात्मा   और   शक्ति   का   कभी   भी   विनाश   होगा  ।
इस   प्रकार   जो   नगर   प्रगट   हुआ   वह   बहुत   ही   सुंदर   और   आनन्द   देने   वाला   था  ।   इसलिए   उस   नगर   का   नाम   रखा  : ” आनन्दवन “
बाद   में   जब   परमात्मा   सृष्टि   की   रचना   करने   लगे    तो   आनन्दवन   का   नाम   बदल  कर   दूसरा   नाम    रखा  :” काशी “।
सबसे   पहले   अपने   आपको   प्रगट   किया   अपने   साथ   में   शक्ति   के   रूप   में   मां   भगवती   को   फिर   काशी   नगरी   को   प्रगट   किया  !
इस   प्रकार   सृष्टि   की   रचना   प्रारंभ   कर   दी  ।
सबसे   पहले   एक   दिव्य   महादेव  ,   महा   पुरुष   को   प्रगट   किया  ,   जो   बहुत   ही   शांत  ,   सर्वगुण   सम्पन्न  ,  गम्भीरता   में   सागर  के                   समान  ,   क्षमा   में   पृथ्वी   के  समान ,  जिनका   वाणी   से   वर्णन   करना   बहुत   मुश्किल   है   ऐसे   महान   देवता   स्वरुप   एक   दिव्य  महा                     पुरुष   को  प्रगट  किया  ।   जिनके   चार   हाथ   थे  ,   पीले   वस्त्र   पहने   हुए   थे  ,   सुंदर   मुकुट   पहने   हुए   थे  ,   गले   में   वैजन्ती   माला  थी,                 चारों   हाथों   में   शंख , चक्र , गदा , पद्म  और   कमल  का  फूल  लिए ,  पीताम्बर  धारण   किए   हुए   प्रगट   हुए  ।   जैसे   ही   प्रगट   हुए  ,                          पीताम्बरधारी   ने   पूछा  :   हे   सदाशिव   मैं   आपको   प्रणाम   करता   हूं  ,   आपने   मुझे   प्रगट   किया   तो   मेरा   क्या   नाम   होगा  ।   तब                        सदाशिव   ने  पीताम्बर   धारी   का   नाम   करण   करते   हुए   कहा  : ”  हे    देव   आप   सर्वत्र   त्रिलोक   में   व्याप्त   रहोगे  :   देवलोक   में  ,   पृथ्वी                लोक   में ,    पाताल  लोक  में ,   आप   सब   प्रकार   से   व्याप्त   रहोगे  ।   इसलिए   मैं   आप   का   नाम   ”  विष्णु  ”   रखता   हूं  ।
तभी   विष्णु   जी   ने   कहा   हे   प्रभु   :   आपने   मेरा   नाम   करण   तो   कर   दिया  ।   अब   आप   मुझे   काम   भी   बताईए   काम   क्या   करना               होगा  ।  तब   भगवान   सदाशिव   ने   भगवान   विष्णु   जी   को   कार्य   सौंपा  :   हे   विष्णु   आप   यहीं   काशी   नगरी   में   बैठ   कर   मुझ   शिव                और   शिवा   का   ध्यान   रखकर  ,   मैं   आपको   श्वांस   के   द्वारा   मंत्र   देता   हूं   इसका   जाप   करते   हुए   कठोर   तपस्या   करो   क्योंकि   आपको          सृष्टि   के   कार्यो   में   सहयोग   देना   है  ।  और   सृष्टि   के   कार्य   आप   तभी   कर   पाओगे   जब   आपके   पास   शक्ति   होगी  ।   उस   शक्ति   को           प्राप्त   करने   के   लिए   आपको   मेरी   भक्ति   और   शक्ति   चाहिए  ।   प्रभु   सदाशिव   के   वचनों   का   पालन   करके   भगवान   विष्णु   ने   ध्यान            लगाकर   सदाशिव   ने   सांस   के   माध्यम   से   जो   मंत्र   दिया   उसका   जाप   करते   हुए  ,   शिव-शिवा   का   ध्यान   करते   हुए   घोर   तपस्या                  प्रारंभ   कर   दी  ।   हजारों   वर्षों   तक   भगवान   विष्णु   ने   काशी   में   बैठ   कर   घोर   तपस्या   की  ।
फिर   भगवान   विष्णु   ऐसी   घोर   तपस्या   करने   लगे   कि   घोर   तपस्या   करते-करते   ही   उनके   शरीर   मे   से   जल   रुप   में   पसीने   निकलने             लगे  ।   शरीर   में   पसीने   की   धारा   बहने   लगी  ।   और   कोई   छोटी-मोटी   धारा   नहीं  ।   विष्णु   जी   शक्ति   से  ,   विष्णु   जी   की   भक्ति   से  ,      तपस्या   के   प्रताप   से   भगवान   विष्णु   के   शरीर   से   जल   रुप   में   ऐसी   धारा   बहने   लगी   जैसे   बारिश   के   दिनों   में   पहाड़ों   से   झरने                 बहते   हैं  ।  और   यही   झरना   रुपी   पसीना   जल   के   रुप   में   इतना   निकला   कि   पूरे   त्रिलोक   में   जल   ही   जल   प्रगट   हो   गया  । 
और   जब   पूरा   त्रिलोक   जलमय   हो   गया   तो   जो   काशी   में   भगवान   विष्णु   तपस्या   मे   समाधी   लगाए   बैठे   थे   वो   उस   जल   में                       लेट   गए   लेकिन   तपस्या   अभी   नहीं   छोड़ी  ।   लेटे   हुए   भी   भगवान   विष्णु   तपस्या   कर   रहे   थे  ।   तभी   सदाशिव   ने   विष्णु   जी                     की   तपस्या   से   प्रसन्न   होकर   इस   सृष्टि   का   कार्य   आगे   कदम   बढ़ाया   और   जल   में   लेटे   लेटे   ही   विष्णु   जी   की   नाभि   से  कमल            की   नाल   प्रगट   की   और   नाल   से   बढ़ते-बढ़ते   कमल   का   फूल   प्रगट   हुआ   और   उस   कमल   के   फूल   में   से   एक   और   दिव्य  महा                  पुरुष   प्रगट   हुए   जो   ब्रह्म   जी   कहलाए  ।
इस    प्रकार   जल    की   उत्पत्ति   हुई  ।
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…