Home कोट्स Motivational Quotes ‘जरा सोचो -जीवन का ‘आनन्द’ कहाँ छिपा है ? सही मार्ग को अपनाओ ” |

‘जरा सोचो -जीवन का ‘आनन्द’ कहाँ छिपा है ? सही मार्ग को अपनाओ ” |

1 second read
0
0
718

[1]

जरा सोचो
‘मैं  ‘साफगोई’ का  पक्षधर  हूं ,’यद्यपि  ‘दुश्मन’  बढ़  जाएंगे,

‘ सभी  से ‘ स्नेह ‘  करता  हूं ,’ झूठ ‘  बोला  ही  नहीं  जाता ‘ !

[2]

जरा सोचो
‘इच्छाएं ‘ पाले रहे और ‘प्राण’ निकल गए, ‘तो समझो ‘मृत्यु’ हो गई,
 ‘जो   ‘  इच्छा   रहित  ‘  मरते   हैं ,’ मोक्ष ‘  उनको  ही  मिलता  है ‘ !

[3]

जरा सोचें
‘ बूंदे ‘  जब  सीपी ‘ पर  गिरी , ‘ मोती ‘ बनकर  ही   उभरी,
‘गरम तवे’ पर जा गिरी तो, ‘अस्तित्व’ ही मिट गया उसका’ !

[4]

जरा सोचो
‘ जीवन ‘ और ‘ मृत्यु ‘ तो ‘ भाग्य  और  समय ‘  का  खेल  है,
‘दिलों  में  जगह’ बनाने  का  खेल, ‘सिर्फ ‘कर्माधीन’ होता  है’ !

[5]

जरा सोचो
‘सद्गुरु’  से  मिले  तो  ‘भगवान  के  दर्शन ‘  का  लाभ  मिला,
‘चांडाल’ से  मिले  तो  ‘कोड़े  पड़े’, ‘ नर्कगामी ‘  ही  बने ‘ !

[6]

‘जब  तक  माँ-बाप  जिंदा  हैं ‘,
‘जन्नत  का  मज़ा  है ‘,
‘उनकी  छाया  खतम  तो ,
‘तेरी  जन्नत  भी  खतम ‘|

[7]

जरा सोचो
‘मन  ‘आहत’  था, कोई  अपना  ‘दिल  तोड़  कर’ चला  गया  था,
‘जो  ‘मरहम’  लगाने  आए  थे, ‘ वह  भी  जख्म’  ही  देते  गए’ !

[8]

जरा सोचो
‘जल’  और  ‘संबंध’  का  न  कोई  ‘रंग’  है, न  कोई  ‘स्वरूप’,
‘दोनों  के  बिना’ कोई  जीवन  नहीं, ‘ गजब  इत्तेफाक  है’ !

[9]

जरा सोचो
‘दिल  में  दूरियां’ बनी  रहेगी  तो, ‘नज़दीकियों’  का  वजूद  कहां  है’?
‘स्नेह’ का ‘आदान-प्रदान’  ही  सबको ‘एक धागे’  में  बांधे  रखता  है’ !

[10]

जरा सोचो
‘निस्वार्थ  भाव’  की  ‘ सेवा  और  प्रार्थना ‘ जल्दी  स्वीकारते  हैं   प्रभु ,
‘सब  कुछ ‘हासिल’ करने  के प्रयास  में  हम, सब  कुछ ‘भूल’ जाते  हैं’ !

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Motivational Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…