Home Uncategorized ” जरा सोचें , विचारें , मंथन करें तो सही परिणाम निकलेंगे ‘ |

” जरा सोचें , विचारें , मंथन करें तो सही परिणाम निकलेंगे ‘ |

0 second read
0
0
641
[1]

जरा   सोचो
‘गलत  आदमी’  से  बहस  करने  से  बेहतर  है , ‘ सही  आदमी ‘  से  तालमेल ,
‘अर्थ  रहित’ शब्दों  के  प्रयोग  से, ‘सार्थक  शांति’  का  प्रयास  बेहतर  है ‘ !

[2]

जरा   सोचो
आरक्षण‘  का  ‘विनाश’  नहीं  हुआ ,  तो  ‘देश  का  विनाश’  निश्चित  है,
‘सख्त  कानून’  की  जरूरत  है, ‘असली जामा’ पहनाए  सरकार  जी’ !

[3]

जरा   सोचो
‘उम्र’  घटती  जा  रही  है  रात दिन, कब  ‘मस्ती’  में  झूमेगा  बता ,?
‘भूखे’  को  खिला  दे, प्यासे  को  पिला  दे , कुछ  तो  भला  कर  जा’ !

[4]

जरा   सोचो
‘पहले  खुद  अच्छे  बनो ,  अच्छे  ही  मिलते  जाएंगे ,
‘ जिन्हें ‘अच्छों की तलाश’ है ,’खाली हाथ नहीं लौटेंगे’ !

[5]

जरा सोचो
‘जनसंख्या’  विस्फोट  ‘ सितम  से  भीषणतम ‘  हो  गया  है ,
‘ इसके  तुरंत  ‘निस्तारण’ हेतु ‘सख्त  कानून’ की  जरूरत  है’ !

[6]

जरा   सोचो
‘जरूरत   से   ज्यादा   धन  , लालच  ,  आलस ,   अभिमान  , ‘ इच्छाएं  , 

 ताकत  , प्रेम  , घृणा  ,   अहम   भाव  ,  सब   जहर   ही   तो   है  ‘ !

[7]

जरा सोचो
‘जिनके  लिए  ‘हुस्न’  पर  शबाब  आया,  वही  ‘बिखर’  गया,
‘वाह  रे  किस्मत  ! तू  भी  बेवजह  ‘धोखा’  परोस  देती  है ‘ !

[8]

जरा सोचो
‘ताउम्र’  ऑक्सीजन  देने  वाले  ‘पेड़’  को  हम  ‘काट’  डालते  हैं ,
”जब ‘डॉक्टर’ ऑक्सीजन देता है,’उसे ‘भगवान’ कहते नहीं थकते’ ‘

[9]

जरा सोचो
‘विपरीत’  परिस्थितियों  के  विरुद्ध  ‘लड़ना’  सीख  लेना  चाहिए,
‘गला काट प्रतिस्पर्धा’ में ‘आशावादी’ बने रहना बचा लेगा तुम्हें’ !

[10]

जरा सोचो
‘खुलकर हंसने’ को ‘स्वास्थ्यवर्धक’ और ‘जीवनवर्धक’औषधि माने,
‘ठहाके’  का  स्पंदन  ‘ रक्त वाहिनी ‘  को ‘ जीवित ‘  बनाए  रखती  है’ !
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…