Home कोट्स Motivational Quotes जब किसी को ‘आराम’ दो , अपनी ‘तकलीफ’ ‘भूल’ जानी चाहिए | कुछ सारगर्भित छंद |

जब किसी को ‘आराम’ दो , अपनी ‘तकलीफ’ ‘भूल’ जानी चाहिए | कुछ सारगर्भित छंद |

3 second read
0
0
415

[1]

जरा सोचो
‘हालात’  नहीं  बदलते  तो  ‘मन  के  हालात’  बदलने  की  कोशिश  करो,
अगर  ‘ दोनों ‘  नहीं  बदलते  तो,  ‘वक्त’  ही  सब  कुछ  ‘ बदल ‘  देगा !

[2]

जरा सोचो
‘लगन  तो  लगन ‘  है, लग  गई  तो  ‘ टट्टू ‘  पार  हो  गया  समझो,
‘बेलगन’ कुछ  भी  करो, बात  में  ‘कीड़े’  पड़ेंगे,’हाथ’  कुछ  भी  नहीं  होगा !

[3]

जरा सोचो
जब कुछ ‘नामुमकिन’  सा  लगे, ‘करतब’  दिखाने  की  कोशिश  करो,
या  तो  ‘ सफलता ‘  हाथ  आएगी  या  सबका  ‘ अभिनंदन ‘  पाओगे !

[4]

जरा सोचो
पति- पत्नी  में ‘ खुदगर्ज ‘ कहना ,’ दर्द ‘  परोसता  है,
मां-बाप को  बीच  में ‘घसीटना’ भी  उचित  नहीं  होता,
दो  ‘ बर्तन ‘ साथ  हो  तो  कभी  बज  भी  सकते  हैं ,
पार्टनर की ‘नाराजगी’ चुटकियों में ‘दूर’ होनी चाहिए !
 
[5]
 
जरा सोचो
जब  ‘ बेमौसम ‘- ‘ मौसम ‘  बदलता  है ,   10  का  मास्क  100  में,
100  का  मुर्गा 10  में, बेशकीमती  ‘कीर्ति  बैंक’ कौड़ियों  में  बिकता  है  !
 
[6]
 
 जरा सोचो
‘तुम’- ‘तुम’ ना  रहो, ‘मैं’- ‘मैं’  न  रहूं, दोनों ‘हम’  में  समा  जाएं,
‘ अहंभाव ‘  दहन  करके  ‘ अनंत  सत्ता ‘  का ‘आशीष ‘  लेते  रहें  !
 
[7]
 
जरा सोचो
जब  ‘किसी’  को ‘आराम’  दो, अपनी  ‘तकलीफ’  भूल  जानी  चाहिए,
उस  ‘ राह ‘  का  ‘ आनंद ‘  बेमिसाल  है ,   कहीं  ‘ ढूंढे ‘  नहीं  मिलता !
 
[8]
 जरा सोचो
तुम  कोई  ‘कायदा’  नहीं  मानते, और  न  कोई  ‘वायदा’  करते  हो,
‘दुनियां’  जाये ‘भाड़’  में, अपने ‘फायदे’ की  बात  करते  हो’  गजब !
[9]
जरा सोचो
‘ ईल्म ‘  के  ‘ खलीफाओं ‘  से  बात  क्या  करना  ?  हम  ‘ हार ‘  जाएंगे,
हम  तो ‘पुराने  दौर’ के ‘खलीफा’  हैं, ‘मिलजुल’ कर  रहना  ही ‘फितरत’  है !
[10]
‘जरा सोचो
जब  ‘सब  कुछ’  हमारी  ‘योग्यता’  के  अनुसार  ही  देते  हैं  ‘प्रभु’,
सब  कुछ ‘त्याग’, क्यों  ना ‘योग्यता’ का  ही  ‘वरण’  किया  जाए !
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Motivational Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…