Home कोट्स Motivational Quotes ‘ छोटी-छोटी कड़ियाँ जो जीवन को समझने में सक्षम हैं ‘|

‘ छोटी-छोटी कड़ियाँ जो जीवन को समझने में सक्षम हैं ‘|

1 second read
0
0
217

[1]

‘स्वस्थ  और  उत्तम   सोच  का   मित्र  मिलना , सौभाग्य  की   बात   है ‘,
‘सन्मार्ग   पर  चलते   रहने  के   प्रयास  का  को ई  तोड़   नहीं   होता’|

[2]

‘ कुसंगति  को  त्याग ‘,’ सुसंगति  का  दामन   पकड़ ‘,
‘प्रेम की ज्योति जगा  मन में’ ,’सत्संग  की महिमा  समझ’|

[3]

‘विषैले  बाण  चला  कर  कोई  रंग  जमाता  है  तो  शांत  रहने  में  भलाई  है ‘,
‘वाणी  को  आराम  देते  ही  शुक्रिया  अदा  करो  और  तुरंत  भूल  जाओ ‘|

[4]

‘सभी  कहते  है ‘इज्जत  का  सवाल  है’,
‘कितने  नंबर  का  है’ कोई  नहीं  बताता ‘,
‘ऊल-जलूल  सवालों  से  घिरे  रहते  हैं ‘,
‘सत्कर्म  का  बीड़ा’ क्यों  नहीं  उठाते ‘?

[5]

‘राम-कर्म  कभी  कुकर्मों  में  फँसने  नहीं  देते,                                                                                                                                        ‘सबका  प्रिय  बनाते  हैं’,
‘दुष्कर्मों  के  परिणाम  भयंकर  हैं,
‘रावण  को  आज  तक  फूंकते  है  सब ‘|

[6]

‘रावण  दहन  करके  मस्त  हो ,
‘कभी  मन  के  रावण  को  मारा  नहीं’,
‘लिप्सा  रूपी  रावण  खतम  करते  तो,
‘दरिया  पार  कर  जाते ‘|

[7]

‘बुद्धिमान  वही  है  जो  अपनी  गल्ति  में  सुधार  करे  , मूल्यांकन  करे ‘,
‘ हठ ‘  सदा  हानिकारक  है ‘,’ बने  बनाए  कामों  को  बिगाड़  देता  है ‘|

[8]

‘ असफलता  की  आशंका ‘ आविष्कार ‘  करने  ही   नहीं देती,
‘उत्साही बने रह कर  ही ‘असफलता का दुष्कर्म’ तोड़  सकते  हो’|

[9]

‘अपने  आप  को  कम  आंकना ‘ व ‘ दूसरों  से  तुलना  करना ‘ सरासर  गलत  है ,
‘आत्मविश्वास  की  इस  कमी  के  कारण’ व्यक्तित्व का  सही निर्माण  नहीं होता’|

[10]

‘हम  परमात्मा  द्वारा  प्रदत्त  मानव  देह  का  सदुपयोग  नहीं  करते’,
‘विषय – वस्तुओं  में  लिप्त  रहते  हैं ,अनुत्तरदाई  व्यवहार  करते  हैं ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Motivational Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

“हमारे देश का कायाकल्प होना जरूरी है , गंदी राजनीति का शिकार है हमारा देश” |

[1] हमारे  देश  में ‘आतंकवादी’ का  कोई  धर्म, कोई  जाति, कोई  देश, होता  ही  न…