Home कविताएं प्रेरणादायक कविता ‘चिन्ता’ से नहीं ‘चिन्तन’ करने से द्वार खुलते हैं |

‘चिन्ता’ से नहीं ‘चिन्तन’ करने से द्वार खुलते हैं |

0 second read
0
0
1,285

‘जीवन  में चिंता  नहीं’ ‘,चिंतन करने  से’ ‘ सही  रास्ते  खुलते  हैं’ , 
‘ फल   की  इच्छा  त्याग  कर ‘ ‘ लक्ष्य  तै  करो’ , ‘परिश्रमी  बनो’ ,
‘जो भी करो मन से करो’,’आज नहीं तो कल’ ”सफलता मिल जाएगी’ ,
‘सकारात्मक   सोच   खाली   नहीं   जाती  ‘, ‘द्वार   खुल   ही  जाते  हैं ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…