Home कविताएं प्रेरणादायक कविता चलती का नाम गाड़ी है , रुक गए तो पत्थर !

चलती का नाम गाड़ी है , रुक गए तो पत्थर !

0 second read
0
0
1,269

चलती का नाम’ ‘गाड़ी है’,’आखिरी सांस तक’ ‘काम करने’ कि ‘कुव्वत रक्खो’ ,
‘रुक गए’ तो ‘समझो पत्थर’ ,’हर कोई’ ‘चढ़ जाएगा’ ,’ठोकर लगाएगा’ ,
‘हिम्मतें मर्दा’ , ‘मददे खुदा’, ‘मत भूलना’, ‘सत -प्रतिशत’ ‘सही इबाबत’ है ,
‘तू जिस दिन टूट’ जाएगा ,’समझ लेना’,’यमराज के दरबार’ मे ‘हाज़िरी लगानी है |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…