Home कविताएं देशभक्ति कविता ‘घाटी की फिज़ाओं को विषाक्त करने वालों को सबक मिलना चाहिए’ |

‘घाटी की फिज़ाओं को विषाक्त करने वालों को सबक मिलना चाहिए’ |

1 second read
0
0
1,101

दहशतगर्द , मीरजाफ़र –  कश्मीर  में   जहानियत   की   जुबान  बोलते   रहे  ,

देश-द्रोहियों   की  ज़ुबान   ने   राष्ट्र   की   अष्मिता   झकझोर   कर   रख   दी  ,

कश्मीरी  पंडित-यहाँ शरणार्थी  हो गए ,धर्म निरपेक्षता  का ढ़ोल  पिटता  रहा ,

घाटी  की  फिज़ाओं  को   विषाक्त   बनाने   वाले   नागों  पर  शिकंजा   चाहिए  ,

विध्वंस   का  खेल   खेल   रहे   लोगों   का   फन   कुचलना   बहत   ज़रूरी   है ,

शाबाश – हमारी   सरकार ,  पकड़ – धकड़   करके   सार्थक   प्रयास   तो   किया  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…