Home जीवन शैली घर में गरीबी के कारण-जानिए जनाब

घर में गरीबी के कारण-जानिए जनाब

6 second read
0
0
1,173

 

घर में गरीबी आने के कारण?

1  रसोई  घर  के  पास  में  पेशाब  करना  ।
2  टूटी  हुई  कन्घी  से  कंगा  करना ।
3  टूटा  हुआ  सामान  उपयोग  करना ।
4  घर  में  कूडा-करकट  रखना ।
5  रिश्तेदारो  से  बदसुलूकी  करना ।
6  बांए  पैर  से  पैंट  पहनना ।
7  संध्या  वेला  मे  सोना ।
8  मेहमान  आने  पर  नाराज  होना ।
9  आमदनी  से  ज्यादा  खर्च  करना ।
10  दाँत  से  रोटी  काट  कर  खाना ।
11  चालीस   दिन  से  ज्यादा  बाल  रखना  |
12  दांत  से  नाखून  काटना ।

13  बार-बार  थूकना  |

14  औरतो  का  खडे – खडे  बाल  बांधना ।
15   फटे  हुए  कपड़े  पहनना ।
16   सुबह  सूरज  निकलने  तक  सोते  रहना ।
17   पेड  के  नीचे  पेशाब  करना ।
18  बैतूल  खला  में  बाते  करना ।
19  उल्टा  सोना ।
20  शमशान  भूमि  में   हँसना  ।
21   पीने  का  पानी  रात  में  खुला  रखना  |
22  रात  में  मागने  वाले  को  कुछ  ना  देना  |
23  बुरे  ख्याल  लाना ।
24  पवित्रता  के  बगैर  धर्म-ग्रंथ  पढना ।
25  शौच  करते  वक्त  बाते  करना ।
26  हाथ  धोए  बगैर  भोजन  करना  ।
27  अपनी  औलाद  को  कोसना ।
28  दरवाजे  पर  बैठना ।
29  लहसुन  प्याज  के  छिलके  जलाना  |

30 फकीर  को  अपमानित  करना  या  उससे  रोटी  या  फिर  और  कोई चीज खरीदना।
31  फूँक  मार  के  दीपक  बुझाना ।
32  ईश्वर  को  धन्यवाद  किए  बगैर  भोजन करना ।
33  झूठी  कसम  खाना ।
34  जूते  चप्पल  उल्टा  देख कर  उसको  सीधा  नही  करना ।
35  हालात  जनाबत  मे  हजामत  करना ।
36  मकड़ी  का  जाला  घर  में  रखना ।
37  रात  को  झाडू  लगाना ।
38  अन्धेरे  में  भोजन  करना  ।
39  घड़े  में  मुंह  लगाकर  पानी  पीना ।
40  धर्म-ग्रंथ  न  पढ़ना ।
41  नदी,तालाब  में  शौच  साफ  करना  और  उसमें  पेशाब  करना ।
42  गाय , बैल  को  लात  मारना ।
43  माँ-बाप  का  अपमान  करना  ।
44  किसी  की  गरीबी  और  लाचारी  का  मजाक  उडाना ।
45  दाँत  गंदे  रखना  और  रोज  स्नान  न  करना  ।
46  बिना  स्नान  किये  और  संध्या  के  समय  भोजन  करना ।
47  पडोसियों  का  अपमान  करना , गाली  देना ।
48  मध्य-रात्रि  में  भोजन  करना ।
49  गंदे  बिस्तर  में  सोना  ।
50  वासना  और  क्रोध  से  भरे  रहना  ।
51   दूसरे  को  अपने  से  हीन  समझना  आदि ।

 

शास्त्रों   में   है   कि   जो   दूसरो   का   भला   करता   है  ।
ईश्वर   उसका   भला   करता   है  ।

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…