घर- घर की कहानी

1 second read
0
0
1,239

एक   बार   एक   युवक   बगीचे    में   बहुत   गुस्से   में   भरा   बैठा   था  |  उसके   पास  एक   मेरा   जैसा   बुजुर्ग   बैठा  था  |

उस  बुजुर्ग  साहिब  जी  ने   उस   परेशान   युवक   से   पूछा  , ”  क्या  हुआ  बेटा  ,  तुम   बड़े   बेचैन   और    परेशान    क्यों

हो  “?   युवक  ने   बड़े   गुस्से    में   अपनी    पत्नी    की   गल्तियों    के   बारे    में   उस   आदमी   से    कुछ   बताया  |   वह

बुजुर्ग  मुस्कराने     लगा   और   मुस्कराते   हुए   उस  युवक    से   पूछा   ”  यदि   मैं    कुछ    प्रश्न    पुछना    चाहूँ    तो

क्या   सही   जबाब     दोगे    और    बुरा    भी   नहीं   मानोगे   ?  युवक   ने   कहा , ”  हाँ   बाबा  जी  पुछो   ” |

1   घर  का  खाना  कौन  बनाता  है  ?   युवक  ने   कहा ___ मेरी  पत्नी

2  तुम्हारा  धोबी  कौन  है  ?  तुम्हारे  मैले  कपड़े  कौन  धोता  है  ?  युवक  ने  कहा ____मेरी  पत्नी

3  तुम्हारे  घर  परिवार  और  समान  का  कौन  ध्यान  रखता  है  ? युवक  ने  कहा____मेरी  पत्नी

4  कोई  मेहमान  घर  पर  आए  तो  उसका  ध्यान   कौन  रखता  है  ?        युवक  ने  कहा_____मेरी  पत्नी

5  परेशानी  और  गम  में  कौन  साथ  देता  है   ?                                         युवक  ने  कहा_____मेरी  पत्नी

6  अपने  माता -पिता  को  छोड़   कर  जिंदगी  भर  के  लिए युवक  ने  कहा______मेरी  पत्नी

तुम्हारे  साथ  कौन  आया  है   ?7

7  बीमारी  होने  पर  तुम्हारा  ध्यान  कौन  करता   है  ? युवक  ने  कहा ______मेरी  पत्नी

8  एक  बात  और  बताओ __ तुम्हारी  पत्नी  इतना  काम   करती  है ,

सबका  ध्यान  रखती  है  ,  क्या   कभी   उसने   तुमसे   इस   बात   के

लिए   कुछ  रुपया  पैसा  मांगा  ?                                                               युवक  ने  कहा_____ कभी  कुछ  नहीं  मांगा  |

9  कभी  किसी  बात  की  शिकायत  की  ? युवक  ने  कहा_______ कभी  नहीं  |

” तो   बेटा  यह  बताओ , ‘ इतनी  सारी  खूबियाँ  ‘ तुम्हें  कभी  नजर ही  नहीं  आई  और  सिर्फ ‘ कमी ‘  नज़र  आ  गयी   |  गजब  के  जवान  हो  तुम  |  मन  में  शांति  धारण  करो ,  अपने  घर  जाओ  और  अपनी  पत्नी  प्यार  से  बात  करके  अपना  मामला  तुरंत  इधर-उधर  करो ” | ” बेटा , सदा  ध्यान  रखना “,  ”  जिस  घर  में ‘ प्यार’ , ‘हमदर्दी ‘, ‘सराफ़त’ , ‘इंसानियत’  ‘निवास  करती  हो’ ‘ वह  घर  धरती  का  स्वर्ग  समान  है  ” |

“पत्नी  “!  “ईश्वर  का  दिया    उपहार   है ” ,  “उसकी  उपयोगिता   समझ  कर  उसकी    देखभाल  करो  “,  “अन्याय  करने  से  डरो ” | “ऊपरवाला  सब  कुछ  देख  रहा  है  |  “

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…