Home शिक्षा इतिहास ” गांधी जयंती के अवसर पर विशेष “

” गांधी जयंती के अवसर पर विशेष “

3 second read
0
0
949
[1]

स्वच्छ अभियान में सहयोग दें —
‘ भारत  में  गंदगी  को  ले  कर  बेहद  उदासीन  हैं  लोग ‘,
‘हम  भारतियों  में  साफ  रहने  की  संस्कृति  है  ही  नहीं ,
‘गंदगी साफ करने की नहीं,साफ कराने की बात सोचते हैं ,
‘साफ  सूथरा ,प्रदूषण  मुक्त  रहने  से  कोसों  दूर  लगते हैं ,
‘सरकार मे स्वच्छता अभियान से वाहवाही जरूर लूटी है ,
‘आज  भी  स्थिति दयनीय और विरोधाभासी बनी  हुई  है ‘|

[2]

ऐतिहासिक   युग   पुरुष   मोहनदास   करमचंद   गांधी   के   जन्मदिन   पर   मेरा   सभी   देश   वासियों   को   समर्पण :-
{1}
” बापू –  केवल  राष्ट्र  पिता  नहीं , स्वप्न  है  जो  देशवासी  देखते  है ,’
” बापू – उम्मीद  की अनवरत धारा  है  जो  रगों में  बहती  है  हमारे ,’
” करो या मरो ‘ का नारा बुलंद किया  और स्वतन्त्रता  संग्राम  लड़ा ,’
” ‘ जो सोचा , मनन किया, वही किया , हर  संकट  का  हल  ही  ढूंढा ,|
{2}
” गांधी जी  ने  ‘शांति, अहिंसा और सदभाव ‘की  देश  में  मुहिम  चलाई  थी” ,
” गांधी  मर  नहीं  सकते , उनके  विचार  दुनियाँ  में  गूँजते  नज़र  आते  हैं ” ,
” उन  अहसासों को  जीवित  रखना, हम  भारतवासियों  जी  ज़िम्मेदारी  है” ,
” आज  को  अहिंसा -दिवस ‘ मना  कर , ‘
अधर्म  के  कामों  से  बचते  चलो ”
{3}
‘ ऐसी  कोई  समस्या  नहीं  जो  गाँघी  जी  के  विचारों  से  हल  न  हो  सके’ ,
‘ ध्वंस  के  कगार  पर  बैठे  विश्व को ‘ सत्य- अहिंसा ‘ का  सिद्धान्त  दिया’ ,
” गांधी  जी  कहते थे-अपने  अंदर झाँको,सुधार  करो ,विश्व स्वम सुधरेगा’ ,
“दुनियाँ  का  गांधीवाद  को  आशा  भरी  निगाहों  से  देखना, यूं  ही  नहीं  हैं’ |

 [4]
 “हमारा देश ” :-
” जरूरत   है   ईमानदार   और   सच्चाई   के   रास्ते   पर   चलने   वालों   की |  आदरणीय   नरेंद्र   भाई   जी   मोदी
तथा   उन   जैसे   कुछ   भाई   आए  ,  काम   पर   लग   गए | बाकी   अधिकतर   स्थान   खाली   हैं   अब   तक ” |
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…