Home कविताएं देशभक्ति कविता गांधी के देश में

गांधी के देश में

0 second read
0
0
1,186

‘गांधी के देश में’–‘ताकत का प्रदर्शन’,‘खून खराबा’,‘बलात्कार’–‘ऐसा क्यों’ ?
‘दबंगों पर लगाम नहीं लगाई’ तो ,’ देश’ ‘अराजकता का शिकार हो जाएगा’ ,
‘आंदोलन की आड़ में’ –‘उन्माद’ , ‘हिंसा’ ,’बलात्कार’ की अनुमति’ ‘किसने दी ,बताओ’ ?
‘अधिकार मांगने का अधिकार’ है ‘सबको’ , ‘मगर इतनी बेहियाई से नहीं’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…