Home खेल खेल

खेल

2 second read
0
0
1,272

“खेलों  के  माध्यम  से  बच्चों  में  एक  नया  जज़्बा , जुनून  व  जोश  पैदा  होता  है  तथा

एक  दूसरे  से  आगे  आने     के  भाव     से   प्रति    स्पर्धा  की  भावना     पैदा  होती  है  तथा

प्रति- स्पर्धा  के  कारण  ही  हम  आगे  बढ़ते  है “

 

 

“पुरुषार्थ   और  मेहनत  से  जीवन  सफल  होता  है  और  खेल  हमें  मेहनत  करना  सीखाते  हैं |

खेलों  से  हमें  कभी  जीत  तो  कभी  हार , कभी  चोट , कभी  गिरने  की  पीड़ा  भी   मिलती  है ,

इससे ‘ देश  के  लिए’ ‘ कुछ  कर  गुज़रने  की  भावना’  ‘दिलों  में  उफान  लाती  है  “ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In खेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…