खुशी का जखीरा

0 second read
0
0
1,268

खुशी   का   समंदर    तुम्हारे   अन्दर   ही   समाया    हुआ     है   ,

सारे    जमाने   में   खुशी    का   जखीरा    ढूंढते    फिर    रहे    हो ,

ये   दौलत , हवेली ,  शानो -शौकत    में    ढूंढने    से    क्या    होगा  ?

आडंबरों   से  पीछा   छुड़ा , सुसंगति  की  हाला  पी ,खुद  को  तराश |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…