Home कविताएं उदासी की कविताएँ खुद को दोषी मानना उचित नहीं

खुद को दोषी मानना उचित नहीं

0 second read
0
0
1,555

‘यदि    कोई’   ‘अपने   दुर्भाग्य    से   दुःखी    हो’ ,’ उसका    आत्मविश्वास   खतम   हो ‘ ,

‘कुछ   न   कर    पाने    की    असमर्थता    से’ , ‘ हम    खुद     को    दोषी    मानते     हैं’ ,

‘अपराध-बोध    के   कारण’ ‘ हम   अपने   आप    से    ही ‘ ‘ नफरत   करने   लगते   हैं ‘ ,

‘सोचते    हैं ‘ ‘ हमारे   साथ   जो   भी   गलत  होता  है’ ,’सही  हो  ही  नहीं  सकता  कभी ‘ |

‘आप   जो    भी   करते    हैं ‘  ‘यदि    उसमें    कभी    कुछ    गलत     हो    भी    जाता   है’ ,

‘सबसे    पहले    तो    खुद    को    माफ    करो’  , ‘गलतियों   को   दोबारा   न  दोहराओ  ‘ ,

‘जो  गुज़र  गया   वो   गुज़र  गया ‘  और  ‘ वो    कभी   बदला   भी   नहीं   जा   सकता ‘ ,

हाँ – ‘ भविष्य    मे   गलतियों   को  रोकने   का’ ‘ भरसक   सार्थक  प्रयास’  ‘होना  जरूरी  है ‘ |  

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In उदासी की कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…