Home जीवन शैली “खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीना -जहर सरीखा है ‘ ! जानिए कैसे ?

“खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीना -जहर सरीखा है ‘ ! जानिए कैसे ?

23 second read
0
0
1,248

स्वास्थ्य  संबंधी  विशेष   जानकारी  जो  हर  प्राणी  के  लिए  अमृत  समान  है  :-

खाना   खाने   के   बाद   पेट   मे   खाना   पचेगा   या   खाना   सड़ेगा   ये  जानना बहुत   जरूरी   है  । 
हमने   रोटी   खाई  , हमने   दाल खाई ,  हमने  सब्जी  खाई , हमने   दही   खाया लस्सी  पी , दूध , दही  छाझ  लस्सी  फल  आदि  ।
ये  सब  कुछ   भोजन   के   रूप   मे   हमने   ग्रहण   किया  |
ये   सब   कुछ   हमको   उर्जा   देता   है   और   पेट   उस   उर्जा   को   आगे   ट्रांसफर करता   है  ।
पेट   मे   एक   छोटा   सा   स्थान   होता   है   जिसको   हम   हिंदी   मे   कहते   है “अमाशय”  उसी   स्थान   का   संस्कृत   नाम   है   “जठर”।
उसी   स्थान   को   अंग्रेजी   मे   कहते   है :- 
“epigastrium”
ये   एक   थेली   की   तरह   होता   है   और   यह   जठर   हमारे   शरीर   मे   सबसे महत्वपूर्ण   है   क्योंकि   सारा   खाना   सबसे   पहले   इसी  मे  आता  है ।
ये   बहुत   छोटा   सा   स्थान   हैं   इसमें   अधिक   से   अधिक   350  GMS  खाना आ   सकता   है  ।
हम   कुछ   भी   खाते   हैं  सब   ये   अमाशय  मे  आ  जाता   है  ।
आमाशय   मे   अग्नि   प्रदीप्त   होती   है   उसी   को   कहते   हे “जठराग्न”।
ये   जठराग्नि   है   वो   अमाशय   मे   प्रदीप्त   होने   वाली   आग   है   ।   ऐसे   ही    पेट   मे   होता   है   जेसे   ही   आपने   खाना   खाया   की   जठराग्नि   प्रदीप्त   हो गयी  ।
यह   ऑटोमेटिक   है  ,  जेसे   ही   अपने   रोटी   का   पहला   टुकड़ा   मुँह   मे   डाला की   इधर   जठराग्नि   प्रदीप्त   हो   गई  ।
ये   अग्नि   तब   तक   जलती  है  जब   तक   खाना   पचता   है  ।
अब अपने   खाते   ही   गटागट   पानी   पी   लिया   और   खूब   ठंडा   पानी              पी  लिया   ।
और   कई   लोग   तो   बोतल   पे   बोतल   पी   जाते   है  ।
अब   जो   आग   (जठराग्नि)   जल   रही   थी   वो   बुझ   गयी  ।
आग   अगर   बुझ   गयी   तो   खाने   की   पचने   की   जो   क्रिया   है   वो   रुक   गयी  ।
अब   हमेशा   याद   रखें   खाना   जाने   पर   हमारे   पेट   में   दो   ही   क्रिया   होती   है ,
एक   क्रिया   है   जिसको   हम   कहते     हैं   “Digestion”   और   दूसरी  है “fermentation”
फर्मेंटेशन   का   मतलब   है   सडना
और   डायजेशन   का   मतलब   है  पचना ।
आयुर्वेद   के   हिसाब   से   आग   जलेगी   तो   खाना   पचेगा  ,  खाना   पचेगा         तो   उससे   रस   बनेगा  ।
जो   रस   बनेगा   तो   उसी   रस   से   मांस  ,मज्जा, रक्त ,वीर्य , हड्डिया, मल ,  मूत्र और   अस्थि   बनेगा   और   सबसे   अंत   मे   मेद   बनेगा  ।   ये   तभी   होगा   जब खाना   पचेगा  ।   यह   सब   हमें   चाहिए  ।   ये   तो   हुई   खाना   पचने   की   बात ।
अब   जब   खाना   सड़ेगा   तब   क्या   होगा..?   खाने   के   सड़ने   पर   सबसे  पहला जहर   जो   बनता   है   वो   हे   यूरिक   एसिड   (uric acid )  कई   बार   आप   डॉक्टर   के   पास   जाकर   कहते   है   की   मुझे   घुटने   मे   दर्द   हो   रहा  है  ,     मुझे   कंधे – कमर  मे   दर्द   हो   रहा   है ,
तो   डॉक्टर   कहेगा   आपका   यूरिक  एसिड   बढ़   रहा   है   आप   ये   दवा   खाओ , वो  दवा   खाओ ,
 यूरिक   एसिड   कम   करो  ।
और   एक   दूसरा   उदाहरण   खाना
जब   खाना   सड़ता   है ,  तो   यूरिक   एसिड   जेसा   ही   एक   दूसरा   विष   बनता   है   जिसको   हम   कहते     हैं ,
LDL  (Low Density lipoprotive )
माने  खराब  कोलेस्ट्रोल   (cholesterol )
जब   आप   ब्लड   प्रेशर (BP)  चेक   कराने   डॉक्टर   के   पास   जाते   हैं   तो   वो आपको   कहता   है   (HIGH   BP )
हाई- बीपी   है   आप   पूछोगे   कारण   बताओ  ?
तो   वो   कहेगा   कोलेस्ट्रोल   बहुत   ज्यादा   बढ़ा   हुआ   है  ।
आप   ज्यादा   पूछोगे   की   कोलेस्ट्रोल   कौन  सा   बहुत   है   ?
तो   वो   आपको   कहेगा   LDL   बहुत   है   |
इससे   भी   ज्यादा   खतरनाक   एक   विष    हैं ,
वो   है   VLDL  (Very  Low  Density  lipoprotive)  ये   भी   कोलेस्ट्रॉल   जेसा ही   विष   है  ।
अगर   VLDL   बहुत   बढ़   गया   तो   आपको   भगवान   भी   नहीं  बचा   सकता खाना   सड़ने   पर   और   जो   जहर   बनते   है   उसमे   एक   ओर   विष   है   जिसको अंग्रेजी   मे   हम   कहते   है   triglycerides  , 
जब   भी  डॉक्टर  आपको  कहे   की आपका   “triglycerides”   बढ़ा  हुआ   हे   तो  समझ    लीजिए   की   आपके   शरीर   मे   विष   निर्माण  हो   रहा   है  ।
तो   कोई   यूरिक   एसिड   के   नाम   से   कहे  ,  कोई   कोलेस्ट्रोल   के   नाम   से   कहे,   कोई   LDL   VLDL   के   नाम   से   कहे   समझ   लीजिए   की   ये
विष    है   और   ऐसे   विष   103   है  ।   ये   सभी   विष   तब   बनते   है   जब   खाना सड़ता   है  ।
मतलब   समझ   लीजिए   किसी   का   कोलेस्ट्रोल   बढ़ा   हुआ   है   तो   एक   ही मिनिट   मे   ध्यान   आना   चाहिए   की   खाना   पच   नहीं   रहा   है   ,  कोई   कहता है    मेरा   triglycerides   बहुत   बढ़ा   हुआ   है   तो   एक   ही   मिनट   मे डायग्नोसिस   कर   लीजिए   आप   !  की   आपका   खाना   पच   नहीं   रहा   है  ।
कोई   कहता   है   मेरा   यूरिक   एसिड   बढ़ा   हुआ   है  तो   एक   ही   मिनट लगना चाहिए   समझने   मे   की   खाना   पच   नहीं   रहा   है  ।
क्योंकि    खाना   पचने   पर   इनमे   से   कोई   भी   जहर   नहीं   बनता  ।
खाना   पचने   पर   जो   बनता   है   वो   है   मांस  ,मज्जा,रक्त,वीर्य,         हड्डियाँ मल  , मूत्र , अस्थि   और  खाना   नहीं   पचने   पर   बनता   है   यूरिक   एसिड , कोलेस्ट्रोल
, LDL – VLDL |
और   यही   आपके   शरीर   को   रोगों   का   घर   बनाते   है   !
पेट   मे   बनने   वाला   यही   जहर   जब   ज्यादा   बढ़  कर   खून   मे   आते   है  !   तो   खून   दिल   की   नाड़ियो   मे   से   निकल   नहीं   पाता   और   रोज   थोड़ा   थोड़ा   कचरा   जो   खून   मे   आया   है   इकट्ठा   होता   रहता   है   और   एक      दिन   नाड़ी   को   ब्लॉक   कर   देता   है   जिसे   आप ”  heart attack ”  कहते   हैं !
तो   हमें   जिंदगी   मे   ध्यान   इस   बात   पर   देना   है
की   जो   हम   खा   रहे     हैं   वो   शरीर   मे   ठीक   से   पचना   चाहिए   और   खाना ठीक   से   पचना   चाहिए   इसके   लिए   पेट   मे   ठीक   से   आग   (जठराग्नि) प्रदीप्त   होनी   ही   चाहिए  |   क्योंकि   बिना   आग   के   खाना   पचता   नहीं   है    और   खाना   पकता   भी   नहीं   है  ।
महत्व   की   बात   खाने   को   खाना   नहीं   खाने   को   पचाना   है  । आपने   क्या खाया   कितना   खाया   वो   महत्व   नहीं   है      ।
खाना   अच्छे   से   पचे   इसके   लिए   वाग्भट्ट जी   ने   सूत्र   दिया   !!
“भोजनान्ते व 
(मतलब   खाना   खाने   के   तुरंत   बाद  पानी   पीना  जहर   पीने  के   बराबर  है )
इसलिए   खाने   के  तुरंत   बाद   पानी   कभी   मत   पिये  !
अब   आपके   मन   मे   सवाल   आएगा   कितनी   देर   तक   नहीं   पीना ???
तो   1 घंटे 48 मिनट   तक   नहीं   पीना   !
अब   आप   कहेंगे   इसका   क्या   calculation  हैं  ??
बात   ऐसी   है   !
जब   हम   खाना   खाते   हैं   तो   जठराग्नि   द्वारा   सब   एक   दूसरे   मे  मिक्स  होता   है   और   फिर   खाना   पेस्ट   मे   बदलता       ही   है !
पेस्ट   मे   बदलने   की   क्रिया   होने   तक   1 घंटा 48  मिनट   का   समय   लगता   है !  उसके   बाद   जठराग्नि   कम   हो   जाती   है  !
(बुझती  तो  नहीं  लेकिन  बहुत  धीमी   हो   जाती   है   )
पेस्ट   बनने   के   बाद   शरीर   मे   रस   बनने   की   परिक्रिया   शुरू   होती   है   !
तब   हमारे   शरीर   को   पानी   की   जरूरत   होती   हैं ।
तब   आप   जितना   इच्छा   हो   उतना   पानी   पिये   !!
जो   बहुत   मेहनती   लोग   है   (  खेत   मे   हल   चलाने   वाले   ,  रिक्शा   खीचने वाले   पत्थर   तोड़ने   वाले  )
उनको   1  घंटे   के   बाद   ही   रस   बनने  लगता   है   उनको   घंटे   बाद  पानी   पीना चाहिए   !
अब   आप   कहेंगे   खाना   खाने   के   पहले   कितने   मिनट   तक   पानी   पी   सकते   हैं   ???
तो   खाना   खाने   के   45  मिनट   पहले   तक   आप   पानी   पी   सकते   हैं   !

अब   आप   पूछेंगे   ये   मिनट   का   calculation ????

बात   ऐसी   ही   जब   हम   पानी   पीते   हैं  तो  वो   शरीर   के   प्रत्येक   अंग   तक जाता   है   !

और   अगर   बच   जाये   तो   45  मिनट   बाद   मूत्र   पिंड   तक   पहुंचता   है   !
तो   पानी – पीने   से   मूत्र   पिंड   तक   आने   का   समय   45   मिनट   का   है  !
तो   आप   खाना   खाने   से   45   मिनट   पहले   ही   पाने   पिये   !   पानी  ना   पीये खाना   खाने   के   बाद  ।   इसका   जरूर   पालण       करें    !

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…