Home कोट्स Motivational Quotes “क्या आप मेरी सोच से सहमत हो “?

“क्या आप मेरी सोच से सहमत हो “?

4 second read
0
0
1,031

[1]

‘रिस्तों  की  खरीद – बिक्री  करता  नहीं  कोई   प्राणी  ‘,
‘अगर  कोई  करता  है  तो  वो  इंसान  हो  नहीं  सकता ‘ |

[2]

‘चिताओं के प्राचीर पर केवल म्रतक ही जलाए जाते हैं ‘,
‘चिंता / फिक्र  तो  ज़िंदों  को  ही  राख  बना  देती  है ‘|

[3]

‘जब  जब  किसी  का  सहारा  लिया ‘
‘और  निकम्मा  होता  चला  गया ‘,
‘जब  जब  संघर्ष  में  डूबा ‘,
‘नई  मंज़िल  मिलती  चली  गयी ‘|

[4]

‘किसी  असहाय  को  सहारा  देकर  देखो ‘,
‘आनंद  से  तर  जाओगे ‘,
‘खुशी – खुद  में  नहीं’ ,
‘दूसरों  की  खुशी  में  अपनी  खुशी  ढूंढो ‘|

[5]

‘किसी  को  हिकारत  से  मत  देखो’ ,
‘हर  कोई  पहचान  लेता  है ‘,
‘हमदर्द  बने  रहने  की  कवायद ‘,
‘इंसानियत’  से  नवाजेगी  तुम्हें ‘|

[6]

‘ जब  हम  उलझनों  से  उलझेंगे’, 
‘तभी  फैसले  हो  पाएंगे ‘,
‘नहीं  लड़े  तो  हार-जीत  कैसे  कर  पाएंगे’
‘तू  ही  बता ‘?

[7]

‘तू  कुशल  व्यवहारी  बन  कर  करोड़ों  दिलों  को’                                                                                                                                                                 ‘खरीद  सकता  है ‘,
‘कुव्यवहारी  बन  कर  सबकी  नज़रों  में  गिर  कर’                                                                                                                                                               ‘क्या  मिला  तुझको ‘|

[8]

‘जालिम !जरा  मुस्करा  कर  देख  तों  सही’ ,                                                                                                                                                                       ‘रोनी  सूरत  बनाए  बैठे  हो ‘,
‘सारी  खुशियाँ  तेरे  पाले  में  खिसक  आएंगी’,                                                                                                                                                                    ‘बिना  पुछे  तेरे ‘|

[9]

‘माँ-बाप  की  हार-जीत  का  फैसला’ 
‘औलाद  करती  है ‘,
‘संस्कारी’  है  तो  ‘जीत’  समझ ‘, 
‘कुसंस्कारी’  है  तो  ‘हारा  हुआ  जुआरी’|

[10] 

‘यदि  किसी  ने  राम-गुण  धारण  किए   तो  ‘संस्कारी’,
‘केवल  राम-राम  रटते  रहे  तो ‘पूरे  प्रपंची’  कहाओगे ‘|

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Motivational Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…