Home कोट्स Friendship Quotes ‘कुछ समझो तो ‘हीरे’ ना समझो तो पत्थर हैं ‘ |

‘कुछ समझो तो ‘हीरे’ ना समझो तो पत्थर हैं ‘ |

3 second read
0
0
1,231

? अच्छा *दिखने* के लिये मत जिओ 
बल्कि *अच्छा* बनने के लिए जिओ

 

? जो *झुक* सकता है वह सारी 
दुनिया को *झुका* सकता है

 

? अगर बुरी आदत *समय पर न बदली* जाये 
तो बुरी आदत *समय बदल देती* है

 

? चलते रहने से ही *सफलता* है,
रुका हुआ तो पानी भी *बेकार* हो जाता है

 

? *झूठे दिलासे* से *स्पष्ट इंकार* बेहतर है।*
? अच्छी *सोच*, अच्छी *भावना*,
अच्छा *विचार* मन को हल्का करता है

 

? मुसीबत सब पर आती है,
कोई *बिखर* जाता है 
और कोई *निखर* जाता है !!

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Friendship Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…