Home कविताएं “कुछ विचार जो जीवन से जुड़े हैं “

“कुछ विचार जो जीवन से जुड़े हैं “

0 second read
0
0
1,072

[1]

‘चलती  का  नाम  जीवन  है’,
‘परिवर्तनों  को  स्वीकारते  चलो ‘,
‘कदम  से  कदम  मिलाओगे  तो’ ,
‘आत्मशक्ति  प्रबल  होती  जाएगी ‘|

[2]

‘जब  मनुष्य  जन्म  लिया  है  तो ‘ ,’ सुख – दुःख  दोनों  ही  भुगतने  हैं ‘,
‘ज्ञानी  अपने  ज्ञान  से  और  मूर्ख  अपनी मूर्खता  से’,’भुगतते  जरूर  हैं’|

[3]

‘अच्छे आदमी की तलाश में ‘,
‘सच्चे आदमी को मत खो देना ‘,
‘पूर्णता’ होना खूबसूरत है परंतु’ ,
‘सच्चाई’ भी एक हकीकत है ‘|

[4]

‘उम्मीदों’  से  घायल  हूँ  और ‘उम्मीदों’ से  ही  ज़िंदा  हूँ ‘,
‘मैं,’ ‘बड़ा  जिद्दी,बगड़ैल  व  बेपर  का  ज़िंदा  परिंदा  हूँ ‘|

[5]

‘किसी की नज़रों में खटकते  हैं ‘ ‘ तो  किसी  की  आँख के तारे  बने  है  हम’, 
‘किसी से विचारों में मतभेद हैं’ ‘तो कोई हर बात की तारीफ करते नहीं थकते |

[6]

‘हर  किसी  की  जिंदगी  उसकी  अपनी  सोचानुसार  ही  चलती  है’ ,
‘फिर ‘कोई  क्या  सोचेगा ‘ की  सोच से  बाहर  निकलो’,आगे  बढ़ो’ |

[7]

‘समयानुसार  गल्ति  न  होते  हुए  भी  स्वीकार  लेनी  चाहिए’ ,
‘रिस्तों में खटास  नहीं आती और  अपना कुछ  खर्च नहीं होता ‘|

[8]

‘किसी  को  परेशान  मत  करो  और’
‘ न  दुःख  देने  का  प्रयास’,
‘ हकीकत  है  ‘जैसा  बोते  हैं  वैसा  ही’ 
‘वापिस  लौट  आता  है’ |

[9]

‘दोस्तों  के  दिल  की  अदालत  से’ 
‘उम्र  कैद  मिल  जाए  अगर ‘,
‘रोने-रुलाने  के  किस्से  खतम ‘,
‘सही  जी  जाएंगे  कुछ  दिन ‘|

[10]

‘उदास  बने  रहते  हो  सदा  , मुस्कराते  क्यों  नहीं ‘?
तुम्हारी खुशी से कितने लोग खुश होंगे, ‘सोचा है कभी ‘?

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविताएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…