Home ज़रा सोचो “कुछ बातें जो हम सबको ध्यान से समझने की जरूरत है “

“कुछ बातें जो हम सबको ध्यान से समझने की जरूरत है “

1 second read
0
0
996

[1]

‘जो  खोकर  भी  मुस्कुराता  है ,
‘उसका  इस्तकबाल  होना  चाहिए,
‘आजमाइश  का  जमाना  है,
‘हर  मोड़  पर  चलना  जरूरी  है’ !

[2]

‘जहां  भावनाएं  आपस  में  मिल  जाएं,’वही  हरिद्वार  बना  लो,
‘कुंठित  मन  तो , हरिद्वार  को  भी  नरक  द्वार  बना  देगा’ !

[3]

‘कौन  कहता  है  सिर्फ  ‘इत्र  और  फूल’  ही  खुशबू  फैलाते  हैं’,
‘इंसान  की  शख्सियत’ की  खुशबू  भी,’चारों  तरफ  फैलती  है’ !

[4]

‘स्वार्थी  बनना  शोभा  नहीं  देता,’सिर्फ  सारथी  बनो,
‘मार्गदर्शन  करके  उत्साहित  करना, ‘सर्वोत्तम  कर्म  है’ !

[5]

‘सबको  मेरी  जरूरत  है ‘ ‘ यह  बहम  पालना  हानिकारक  है,
‘मुझे  किसी  की  जरूरत  नहीं’ ‘यह  कहना  अहम  की  पराकाष्ठा’ !

[6]

‘प्रभु  खिलता  है  फूलों  में, कलियों  में, कांटों  में, झाडो  में,
बरसता  है  नदियों  में, नालों  में, मरुस्थल  में, समस्थलो  में,
झांकता  है  पशुओं  में , पौधों  में,  देवों  में , दैत्यों  में ,
महसूस  होता  है  पूजा  में, उपासना  में, आरती  में ,ध्यान  में, !

[7]

‘अपने आदर्श’ सोच  समझकर  चुनो, समझदार  को  भी  सुनना  पड़ता  है,
‘मन  की  शक्ति  गंदी  मत  करो , , ना  लड़ो , योग्यता  साबित  करो’ !

[8] 

 ‘गांठ  बांध  लो, जब  अच्छा  काम  करोगे  तो  तारीफ  ही  मिलेगी ,
‘सत्कर्म  का  सिद्धांत  जीवन  बदल  देगा,’अलबत्ता  देर  सवेर  हो  जाए’ !

[9]

‘सफलता’ गुलाब  की  सुगंध  सरीखी  है,
‘अहं  मत  करना  ,’नाराज  हो  कर  चली  जाएगी’ !

[10]

‘मुश्किलों  से  खूब  भिडो ,:’ एक  दिन  घट  जाएंगी,
‘कड़ी  धूप  से  यारों  कभी, ‘समंदर  सूखा  नहीं  करते’ !

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…