Home कविताएं “कुछ जीवन के मोती चुने हैं आपके लिए ‘!

“कुछ जीवन के मोती चुने हैं आपके लिए ‘!

0 second read
0
0
915

[1]

‘आजकल ‘मंत्र’ ‘यंत्र’, ‘तंत्र’,
‘कुछ काम नहीं आते ‘,
‘सिर्फ ‘षड्यंत्र’ काम करते हैं’ ,
‘उन्हीं का जमाना है ‘|

[2]

‘गलत व्यक्ति से उम्मीद ‘,
‘केवल दर्द परोसती है सबको ‘,
‘सही व्यक्ति पर ‘शक’ कभी ‘,
‘सुंदर जीवन जीने नहीं देता ‘|

[3]

‘बीच  नदी  डूब  गए ”बचाने  वाला  कोई  नहीं  मिला ‘,
‘नाव  में  दरार  पाई  गयी ,अपनों  की  मेहरबानी  थी ‘ |

[4]

‘सम्मान  के  हकदार  को  पूरा  सम्मान  मिलता  है ‘,
‘जिसकी मांग ही ‘सम्मान’ हो ,कोई क्या करें उनका ‘?

[5]

‘खूब  नफरत  करो  हमसे ‘,
‘याद  तो  आते  रहेंगे  आपको ‘,
स्नेही  तो  बने  रहे  पर  याद  नहीं  आती’, 
‘वहाँ  आनंद  कहाँ ‘?

[6]

‘मेरी  किस्मत  खराब  है ‘,’टाइम  नहीं  है ‘,’ये  मुझसे  नहीं  होगा ‘,
‘ये  नुक्तेबाजी  किसी  काम  का  नहीं छोड़ेगी  तुझे’ ‘ बच  कर  चलें ‘|

[7]

‘राम  नाम  सत  है ‘ – ये  शब्द  कितनी  सच्चाई  से  ओतप्रोत  हैं ‘,
‘आत्मसात क्यों नहीं करते’?’स्वम को धोखे में उलझाए रखते हो’|

[8]

‘विनाश  काले  विपरीत  बुद्धि’,
‘कितना  कटु  सत्य  है ‘,
‘अपने  स्वभाव  में  परिवर्तन  करके ‘,
‘जागरूक  रहना  जरूरी  है ‘|

[9]

‘परेशान  रहने  से  समस्या  हल  नहीं  होती  कभी ‘,
‘बचा सकून भी उड जाएगा’,’हाथ मलते ही रह जाओगे ‘|

[10]

‘भाईचारे की भावना को बुलंद करके ,प्रभु का बंदा तो बन ‘,
‘फिर कोई पराया,कोई बेगाना’ ‘नहीं नज़र आएगा तुझे ‘,
‘बैर-भाव खतम,घ्रणा खतम, ‘जातिपाति की दीवारें खतम ‘,
‘प्यार,विशालता,अपनापन,निष्काम सेवा’ साथी होंगे तेरे ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविताएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…