Home जीवन शैली ‘ कुछ जीवन का इत्र छिड्को , आनंद से भर जाओगे ‘|

‘ कुछ जीवन का इत्र छिड्को , आनंद से भर जाओगे ‘|

1 second read
0
0
859

[1]

‘अपनों  में  सही  अपनों  को  ढूँढना,
‘बहुत  मुस्किल  काम  है ‘,
‘कमजोर  सोच  का  अपना  भी ,
‘चोट  देने  में  देर  नहीं  करता ‘|

[2]

‘अगर  सब  कुछ  गोलमोल  रक्खोगे ,
तो  डब्बा  गोल  मिलेगा ‘,
‘अगर  श्रद्धा  से  सींचोगे  तो  पल्लवित
होना  सुनिश्चित  समझ ‘|

[3]

‘जब  भी  तुम्हारी  याद  आती  है,
‘मन  से  चहकने  लगता  हूँ ‘,
‘तुम्हारे  स्नेह  की  बुँदे ,
‘बिना  भिगोये  जाती  ही  नहीं ‘|

[4]

‘ कई  बार  सोचा  हम  तुम्हें  इतना  क्यों  याद  करते  हैं ‘?
‘हर बार  भूल जाते हैं ,’रह-रह कर  दिल में  उतर जाते हो ‘|

[5]

‘अपने  दिल  में  जगह  दे  कर  खुश  कर  दिया  है  आपने ‘,
‘प्रभु’ कृपा  करके  इस कृपालु  की’ हर तमन्ना  पूरी  कर  देना ‘|

[6]

‘झूठ’  को  कितना  भी  ‘सत्य’ साबित  करने  का  प्रयास  करो ‘,
‘एक  दिल  पर्दाफाश  हो  जाएगा’ ,’तुम  कुछ  नहीं  कर  पाओगे ‘|

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…