Home कविताएं उदासी की कविताएँ ‘काल का ग्रास’ बन जाएगा तू !

‘काल का ग्रास’ बन जाएगा तू !

0 second read
0
0
1,415

‘एक दिन इस  संसार  रूपी  बगिया  से’ ‘ सबको  उड   जाना  है’  ,

‘इस  बगिया  की  सुंदरता   पर मस्त  हो ‘, ‘उड़ान  भरता  फिरता है’ ,

‘काल समय  जब  आएगा ‘ , ‘तेरी  जीवन नैया  भी  डोल   जाएगी ‘,

‘मौज-मस्ती  खत्म  हो जाएंगी ‘, ‘मौत  का  ग्रास  बन  जाएगा  तू ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In उदासी की कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…