Home कविताएं देशभक्ति कविता ‘कंधे से कंधा मिला कर चलने की ज़रूरत है “|

‘कंधे से कंधा मिला कर चलने की ज़रूरत है “|

0 second read
0
0
1,238

“एक  सपूत” -” देश  को  सही  राह  पर  ले  जाता   दिखाई  देता  है “,
‘सभी अपना उसको सहयोग दो’,’बस बाजुओं की ताकत बनो उसकी’ ,
‘जिन उलझनों से देश झुलसा जा रहा है’,’उस तपस का अहसास करो’ ,
‘कंधे  से  कंधा   मिला   कर’  ‘ सही  दिशा  मे  चलने  की  जरूरत  है’ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…