Home कविताएं देशभक्ति कविता एसी भी क्या मजबूरी

एसी भी क्या मजबूरी

0 second read
0
0
525

“एसी भी क्या मजबूरी” , “सही फैसले कम ही होते है” ?
“दूध को दूध “ और “ पानी को पानी” “ क्यों नहीं कहते” ?
“देश दहक रहा है” ,” काफिरों की दुरंगी चाल में “ ,
“या खुदा” ! “बख्श दे मेरे देश को” ,”अपनी ‘रहमत’ की हवा” |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…