Home ज़रा सोचो एक सोच , व्यवहार, संस्कार —

एक सोच , व्यवहार, संस्कार —

0 second read
0
0
1,269

हम उन्हे रूलाते हैं, जो
हमारी परवाह करते हैं…
?(माता/पिता/पत्नी)?

हम उनके लिए रोते हैं, जो
हमारी परवाह नहीं करते…
?(औलाद )?

और, हम उनकी परवाह
करते हैं, जो हमारे लिए
कभी नहीं रोयेगें !…
?(समाज)?.
[1/23, 12:36] tarachandkansal41: *”पुल “और “दीवार ” दोनों के निर्माण में एक जैसा कच्चा  मैटीरियल  लगता है,*
*जबकि*
*”पुल” लोगों को जोड़ने का काम करता है,*
*और….!*
*”दीवार “अलग करने का काम करती है।।*
*”इन्सान ” भी मालिक ने एक जैसे ही बनाये हैं,*
*कौन कैसा “व्यवहार” करता है यह उसके “संस्कारों” पर निर्भर है !!!!!* ? *सुप्रभात*?

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…