Home कहानी प्रेरणादायक कहानी ‘एक महिला ही पति को पिता बनना सिखाती है’ -‘प्रेरणादायक ‘

‘एक महिला ही पति को पिता बनना सिखाती है’ -‘प्रेरणादायक ‘

5 second read
0
0
1,135

कृपया  मित्रों ,थोड़ा   समय   निकाल   के   अवश्य   पढ़ें  :-

कल मुझे दिल्ली से पटना आना था।

मेरी फ्लाइट के चार घंटे बाद बेटे की फ्लाइट थी।

उसे पहली नौकरी पर निकलना था। उसे अपना संसार शुरू करना था।

मैं भावुक हो रहा था। बेटा अलग शहर चला जाएगा।

धीरे-धीरे उसका अपना संसार बनेगा।

मैं याद कर रहा था कि जब उसका जन्म हुआ था, पत्नी ने सबसे पहले उसे मेरी गोद में दे दिया था।

पत्नी को मेरी बांहों पर भरोसा था।

जब पहली बार वो स्कूल गया था और बस में अकेला बैठा था, तो पत्नी ने कहा था,

“तुम गाड़ी से पीछे-पीछे स्कूल तक जाओ। वो पहली बार अकेला निकला है।

उसे पता नहीं चलना चाहिए कि तुम पीछे-पीछे साथ चल रहे हो।

उसे तैयार होने दो खुद चलने के लिए, पर हर कदम पर उसके साथ रहना।

यही काम वापसी पर भी हुआ था। दोपहर में मैं स्कूल के बाहर खड़ा था।

मेरा काम था, उसे निकलते देखना और फिर बस के पीछे-पीछे लौटना।”

बेटे को कभी पता नहीं चला, मां, पिता को भेज कर उसे पुरुष बनने की ट्रेनिंग दे रही थी।

बेटा बड़ा होता गया। स्कूल से कॉलेज और कॉलेज से कल नौकरी पर निकल गया।

छह महीना पहले आईआईटी में पढ़ाई के दौरान उसे माइक्रोसॉफ्ट कंपनी में नौकरी मिल गई थी।

जब ऑफर मिला था, मैं बहुत खुश हुआ था। पर मैं भावुक भी बहुत हुआ था कि अब बच्चा मुझसे दूर चला जाएगा।

फिर हम कभी-कभी मिलेंगे। मैं कई बार कमज़ोर भी पड़ा।

यकीनन मां भी भावुक हुई होगी। पर वो मेरी तरह कभी कमज़ोर नहीं हुई।

उसने कदम-कदम पर मुझे पिता होने का पाठ पढ़ाया और बेटे को पुरुष बनने का।

कल मेरी फ्लाइट के चार घंटे बाद बेटे की फ्लाइट थी,

तो मैंने पत्नी से कहा कि मैं अपनी फ्लाइट भी चेंज कर लेता हूं।

हम साथ ही निकलें तो ठीक रहेगा। पर पत्नी ने पूरी मजबूती से कहा कि बेटे को अब उड़ने दो।

उसे अपना संसार बनाने दो। कमज़ोर मत बनो, कमज़ोर मत बनाओ।

तुमने उसे उड़ना सिखा दिया है। अब तुम अपने काम पर जाओ, मैं उसे एयरपोर्ट तक छोड़ आऊंगी।

जिस पत्नी ने पहले दिन मुझे स्कूल तक बस के पीछे-पीछे भेजा था,

आज वो अकेले उसे एयरपोर्ट तक छोड़ने जा रही थी।

मैं फ्लाइट में बैठ कर सोच रहा था कि

पुरुष मन ही मन ये सोच कर कितना खुश होता है कि उनके भीतर पिता बनने का गुण है।

पर अब मुझे लग रहा है कि पिता बनना भी पुरुषों का गुण नहीं।

असल में एक महिला ही पुरुष को पिता बनना भी सिखाती है।??

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…