Home ज़रा सोचो ‘ इन बहुमूल्य बातों पर ध्यान दीजिये , जीवन सुधर जाएगा ‘ |

‘ इन बहुमूल्य बातों पर ध्यान दीजिये , जीवन सुधर जाएगा ‘ |

0 second read
0
0
112

[1]

‘कोई  कोशिश  करते  तो  हार  का  सामना  करना  नहीं  पड़ता ,
‘जो ‘अनवरत  प्रयास’ करते  हैं, ‘सफलता’ उन्हीं  को  चूम  लेती  है’ !

[2]

‘अपने  अमूल्य  रिश्तों  की  तुलना  दौलत  से  मत  करना  कभी,
‘ दौलत  आज  है  कल  ना  हो ,’रिश्ता  आजीवन  साथ  देता  है’ !

[3]

‘बुजुर्ग  इकट्ठे  रहने  को  तरसते  हैं,
‘नई  पीढ़ी  इकट्ठा  करने  में  तल्लीन  है,
‘ना  इनका  कसूर  है  ना  उनका  कसूर  है,
‘इसी  का  नाम  कलयुग  है’ !

[4]

‘रिश्ते  तार  तार  होते  देखे, दिल  टूटते  देखे,
‘विश्वास  डगमगाता  देखा,
‘इस  बदलाव  का  परिणाम  सिर्फ  इतना  है,
‘आदमी  टूट  जाता  है’ !

[5]

‘ धैर्य  रूपी  रथ  पर  सवार  होकर  आत्मविश्वास  से  आगे  बढ़ो,
‘सफलता  रूपी रथ  को  कोई  नहीं  रोक  पाएगा, ‘जय  सुनिश्चित  है’ !

[6]

‘मां-बाप  की  बातें  कड़वी  लगे  तो, ‘दवाई  समझ कर  घटक  जाना,
‘ तबीयत  सुधरते  ही  वास्तविकता   स्वयं  ही  खुल  जाएगी ‘ !

[7]

‘खुशी  में  आंसू  छलकने  लगे , ‘यह  बमुश्किल  नसीब  होता  है,
‘उन  पलों  को  समेट  कर  रखना, ‘खुश  किस्मत  हो  जनाब’ !

[8]

‘जब  आप  ‘ दूसरे  को  अच्छे  लगे ‘ ‘यह  आपकी  पहचान  है ,
‘जब  दूसरा  आपको अच्छा  लगे’ ,’आपकी  परख  का  कमाल  है’ !

[9]

‘स्पष्टता’  में ‘ सफल  रिश्तो’ का  रहस्य  छुपा  रहता  है,
‘ जो  लुकाछिपी  का  खेल  खेलते  हैं , ‘सुखी  नहीं  रहते’ !

[10]

‘पैर  में  चुभा  कांटा ‘ और ‘ आंख  में  पड़ा  तिनका’ निकल  जाएगा,
‘ दिल  में  छुपा  पाप  और  कपट ,’नैया  डुबो  कर  ही  सांस  लेता  है’ !

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

“हमारे देश का कायाकल्प होना जरूरी है , गंदी राजनीति का शिकार है हमारा देश” |

[1] हमारे  देश  में ‘आतंकवादी’ का  कोई  धर्म, कोई  जाति, कोई  देश, होता  ही  न…