Home कविताएं उदासी की कविताएँ इन आँखों से’ ‘सपनों’ को ‘टूटने का दर्द’ ‘ देखा है’

इन आँखों से’ ‘सपनों’ को ‘टूटने का दर्द’ ‘ देखा है’

0 second read
0
0
1,315

‘इन आँखों से’ ‘सपनों’ को ‘टूटने का दर्द’ ‘ देखा है’ ,
‘कल्पनाओं’ का ‘सैलाब’ ‘उमड़ता ‘ देखा,’विवसता’ भी डेखी ,
‘प्यार का समन्दर’ ‘आँखों मे’ ‘ठठोली ‘ करता भी देखा ,
‘तिलतिल ढलता’ ‘उम्र का सैलाब’ भी ‘देखा’, ‘और क्या देखें’ ?

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In उदासी की कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…