Home कविताएं प्रेरणादायक कविता इंसान कहलाना क्यों नहीं चाहते

इंसान कहलाना क्यों नहीं चाहते

0 second read
0
0
1,166

‘कोई हिन्दू’ , ‘मुसलमान’ तो कोई ‘ईसाई”कहलाना पसंद करते है’ ,

‘कोई इनसे क्यों नहीं पूछता’ ,’इंसान कहलाना’ ‘क्यों नहीं चाहते सभी’ ?

‘अब विचार करने का है’,’अच्छाई किसी के जीवन मे”आई भी है या नहीं’ ,

‘मूल यही है’ ,कांटे बो कर फूल ढूँढना’ , ‘सबसे भयंकर भूल है सबकी’ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…