Home कविताएं प्रेरणादायक कविता ‘इंसानियत की पहचान कर ‘ |

‘इंसानियत की पहचान कर ‘ |

0 second read
0
0
673

‘बुलन्दियों  को  छू  लिया  तूने ‘ , मगर ‘ इंसानियत  को  त्याग  कर ‘,

‘क्या   किया   तूने’  ‘सिर्फ   गर्त   में   जाने   का   रास्ता   चुन  लिया ‘ ,

‘ इंसानियत   का   पंख   लगा   कर ‘ ‘अगर  तू  मंजिल  पर  जा  चढा’ ,

‘तुझे  गर्त   में   मिलाने   से  पहले’ , ‘खुदा  भी’  ‘अनेकों   बार   सोचेगा ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

“हमारे देश का कायाकल्प होना जरूरी है , गंदी राजनीति का शिकार है हमारा देश” |

[1] हमारे  देश  में ‘आतंकवादी’ का  कोई  धर्म, कोई  जाति, कोई  देश, होता  ही  न…