Home जीवन शैली आचरण से गुलाब बन

आचरण से गुलाब बन

1 second read
0
0
1,264

 

‘वीरानों   को   गुलशन   मेँ   ‘बदलने   की   ताबीर   कर ‘,

‘फूलों   को’ ‘हीरे  से  ज्यादा  अहमियत  दे’ , ‘गुलाब  बन’ ,

‘जीते  जी’-‘फूलों  की  तरह’,’सदगुणों ‘ की  ‘सुगन्ध  फैला’ ,

‘अपने  आचरण  से’  ‘प्रेम  मयी  वातावरण  को  सुंदर  बना ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…