Home जीवन शैली आचरण की महानता

आचरण की महानता

0 second read
0
0
1,240

‘अगर तू सत्कर्म मे तल्लीन है’ , ‘जीवन मे अंधेरा नहीं होगा’ ,
‘बड़े महलों मे निवास पर भावना संकीर्ण’ , ‘उद्धार कहाँ होगा ‘?
‘सुविधा अनेकों जुटाई पर साधना मे ध्यान नहीं’,’कल्याण कहाँ होगा’ ?
‘शिष्टाचार नाम की चीज नहीं’,’आचरण की महानता कैसे हुई बता ‘?

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…